92 बरस की हुईं स्वर कोकिला लता मंगेशकर, सुरीली आवाज जिसकी दुनिया है दीवानी

20 भाषाओं में 30 हजार से ज्यादा गानों को अपनी मधुर आवाज देने वाली लता मंगेशकर ने मराठी फिल्मों में एक्टिंग भी की थी, वे एक मात्रा ऐसी हस्ती हैं जिनके जीवित रहते उनके नाम से अवार्ड दिया जाता है

Updated: Sep 28, 2021, 01:00 PM IST

92 बरस की हुईं स्वर कोकिला लता मंगेशकर, सुरीली आवाज जिसकी दुनिया है दीवानी
Photo Courtesy: Bhaskar/Instagram

इंडियन फिल्मों की कल्पना बिना गाने के नहीं की जा सकती वैसे ही लता मंगेशकर के बिना फिल्म संगीत की बात अधूरी है। इंदौर में स्वर कोकिला लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929 को हुआ था। उनके घर में संगीत की माहौल था, यही वजह रही की लता को संगीत मानों घूंटी में पिलाया गया हो। उन्होंने पिता दीनानाथ मंगेशकर की देख रेख में 5 वर्ष की उम्र से ही सुर लगाना शुरू कर दिया था। वे 30 हजार से ज्यादा गाने गा चुकी हैं। वे 20 से ज्यादा बोली- भाषाओं के गाने गाने वाली अकेली सिंगर हैं।

 

दादा साहेब फाल्के अवार्ड, भारत रत्न और दर्जनों बार फिल्म फेयर का अवार्ड अपने नाम कर चुकीं लता मंगेशकर बरसों से लोगों की पंसदीदा गायिका बनी हुई हैं। लता की सुर साधना से बहुत छोटी उम्र से शुरू हुई। उन्होंने बालीवुड की दर्जनों अभिनेत्रियों को स्टारडम दिलाने का काम किया। लता के गाए गानों पर जब अभिनेत्रियां थिरकती तो मानों लोगों के दिल-ओ-दिमाग पर फिल्म जादू का काम कर जाती। लता मंगेशकर एक अकेली हस्ति हैं जिनके जीवित रहते उनके नाम पर अवार्ड दिया जाता है। संगीत के क्षेत्र में अच्छा काम करने वालों का सपना रहता है कि उन्हें भी लता मंगेशकर अवार्ड से नवाजा जाए।

कहा जाता है लता गाना रिकॉर्ड करते समय चप्पलें उतार देती थीं, उनका कहना है कि यह उनके लिए आराधना है। लता मंगेशकर को सफेद रंग से बहुत लगाव है, वे अक्सर सफेद रंग की साड़ी में नजर आती हैं। लता को क्रिकेट देखना भी पसंद है। उम्र के इस पड़ाव में वे सोशल मीडिया पर एक्टिव रहती हैं। देश विदेश के अपने फैंस से अपनी बातें शेयर करती रहती हैं। टीम इंडिया के खिलाड़ियों की जीत पर वे अक्सर ट्वीट करती हैं। वे सोशल मीडिया पर अपनी पुरानी फोटोज शेयर कर फैंस को उनसे जुड़ी बातें बताती हैं।  देश विदेश से लता मंगेशकर के जन्मदिन पर बधाईयों का तांता लगा है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, विभिन्न प्रदेशों के मुख्यमंत्री, फिल्मी हस्तियों अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार, आमिर खान, माधुरी दीक्षित, रेखा, शबाना आजमी, दीपिका पादुकोण, माधुरी दीक्षित, रवीना टंडन, शिल्पा शेट्टी, जूही चावला, काजोल, अजय देवगन, करण जौहर समेत बड़ी संख्या में फिल्मी हस्तियों ने उन्हें विश किया है।

 

लता के पिता दीनानाथ मंगेशकर एक्टर सिंगर थे। जब लता 13 साल की थी तब 1942 में उनके पिता का निधन हो गया।  जिसके बाद लता ने घर की जिम्मेदारी सम्हाली और पिता का पेशा अपना लिया। उनके पिता के की मदद से वे गायिका और अभिनेत्री बनी। लता ने कई मराठी नाटकों औऱ फिल्मों में काम किया। लेकिन उन्हें एक्टिंग से ज्यादा गायकी पसंद आती थी। इसलिए उन्होंने एक्टिंग छोड़ दी।

1942 में रिलीज फिल्म पहिली मंगलागौर में लता ने एक्टिंग की। लता ने सिंगर के तौर पर पहला गाना फिल्म लव इज ब्लाइंड के लिए रिकॉर्ड किया था, जो कि रिलीज नहीं हुआ था। लता मंगेशकर को भारत की पहली महिला होने का गौरव प्राप्त है जिन्होंने 1974 में लंदन के रॉयल अल्बर्ट हॉल में अपनी प्रस्तुति दी थी।वे दिलीप कुमार और किशोर कुमार को भाई मानती थीं। वहीं मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर लता जी को अपनी मां का सम्मान देतें है।

 

फिल्मी दुनिया में लता आज जितनी सफल हैं उसके लिए उन्हें भी खासी मेहनत करनी पड़ी। लता मंगेशकर को भी शुरुआती दिनों में रिजेक्शन का सामना करना पड़ा। लता मंगेशकर की आवाज पतली थी, जिसकी वजह से म्यूजिक डायरेक्टर्स ने उन्हें काम देने से मना कर दिया था। लेकिन फिर भी लता ने हार नहीं मानी औऱ मेहनत करती रहीं। फिर एक दौर आया कि उनका गाना फिल्मों की सफलता की गारंटी कहा जाने लगा।

 

कामिनी कौशल, मधुबाला, नूतन, मीना कुमारी, वहिदा रहमान, आशा पारेश, रेखा, हेमा मालिनि,श्रीदेवी, काजोल, माधुरी दीक्षित, प्रिति जिंटा जैसी दिग्गज अभिनेत्रियों को अपनी आवाज दी।