बांग्लादेश के रोहिंग्या शरणार्थी कैंप में अंधाधुंध फायरिंग, 7 लोगों की मौत

बांग्लादेश के कॉक्स बाज़ार में दुनिया का सबसे बड़ा रिफ्यूजी कैंप है, यहां करीब 10 लाख शरणार्थी रहते हैं, शुक्रवार को कैंप में ताबड़तोड़ फायरिंग हुई जिसमें सात लोग मारे गए

Updated: Oct 22, 2021, 01:08 PM IST

बांग्लादेश के रोहिंग्या शरणार्थी कैंप में अंधाधुंध फायरिंग, 7 लोगों की मौत
Photo Courtesy: NDTV

ढाका। बांग्लादेश के एक रोहिंग्या शरणार्थी कैंप में अंधाधुंध गोलीबारी हुई है। इस दौरान सात लोगों की मौत हो गई है। न्यूज़ एजेंसी एएफपी ने बांग्लादेश पुलिस के हवाले से यह जानकारी दी है। बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में दुनिया का सबसे बड़ा रोहिंग्या शरणार्थी कैंप है। यहां करीब 10 हजार शरणार्थी रहते हैं। इसी कैंप में गोलीबारी की घटना हुई है।

बांग्लादेश के प्रमुख मीडिया संस्थान ढाका ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक यह गोलीबारी रोहिंग्या रिफ्यूजी कैंप में स्थित मदरसे में हुआ। बताया गया कि शुक्रवार सुबह करीब 4 बजे उखिया में कैंप नंबर 18 के ब्लॉक एच-52 में मदरसे पर अज्ञात हमलावरों ने हमला किया। शुरुआत में इसे दो प्रतिद्वंद्वी रोहिंग्या ग्रुप्स की झड़प बताई गई।

यह भी पढ़ें: चीन में कोरोना की वापसी, कई जगहों पर लॉकडाउन, स्कूल-कॉलेज हुए बंद

रिपोर्ट्स के मुताबिक सुबह हुई फायरिंग में कम से कम सात लोगों की मौत हो गई जबकि कई अन्य घायल हैं। इनमें 4 लोगों की मौके पर मौत हो गई, जबकि 3 अन्य घायलों ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। स्थानीय एसपी शिहाब कैसर ने मीडिया को बताया कि पुलिस ने एक हमलावर को बंदूक और गोलाबारूद के साथ गिरफ्तार कर लिया है, जबकि अन्य आरोपियों को पकड़ने के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है।

दरअसल, साल 2017 में लाखों रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार से भागकर बांग्लादेश आए थे। म्यांमार की सेना की बर्बर कार्रवाई से जान बचाकर आए इन शरणार्थियों ने कॉक्स बाजार में शरण ली थी। इसे विश्व का सबसे बड़ा शरणार्थी कैंप माना जाता है। बांग्लादेश सरकार को उम्मीद थी कि म्यांमार में हालात सुधरने के बाद ये वापस लौट जाएंगे, लेकिन म्यांमार ने रोहिंग्या को नहीं स्वीकारा, मजबूरन वे शरणार्थी बनकर अमानवीय हालातों में जिंदगी गुजार रहे हैं।