फेसबुक पर नफरत फैलाने वाले पोस्ट में हुई 82 फ़ीसदी की बढोतरी, इंस्टा पर 86 फीसदी का इजाफा

मेटा की रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक पर मार्च 2022 के मुकाबले अप्रैल में 82 प्रतिशत अधिक नफरती पोस्ट की गईं, इंस्टाग्राम ने अप्रैल में 77,000 हिंसक और उकसावे वाली सामग्रियों पर कार्रवाई की

Updated: Jun 02, 2022, 02:55 PM IST

फेसबुक पर नफरत फैलाने वाले पोस्ट में हुई 82 फ़ीसदी की बढोतरी, इंस्टा पर 86 फीसदी का इजाफा

कैलिफोर्निया। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का दुरुपयोग रोकने की तमाम कवायदों के बावजूद सोशल मीडिया साइटों पर नफरत फैलाने वाली पोस्ट और हिंसक कंटेंट में बड़ा इजाफा हुआ है। मेटा के एक मासिक रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि फेसबुक पर नफरती पोस्ट में करीब 82 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। वहीं इंस्टाग्राम पर भी हिंसक और भड़काऊ सामग्री में 86 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।

दरअसल, 31 मई को मेटा द्वारा एक रिपोर्ट जारी की गई, जिसके अनुसार अप्रैल में फेसबुक ने 53 हजार 200 नफरत फैलाने वाली पोस्ट का पता लगाया। जबकि मार्च में इसकी संख्या 38 हजार 600 ही थी। ऐसे में मार्च के मुकाबले अप्रैल में 82 प्रतिशत अधिक नफराती कंटेंट पोस्ट की गईं। इस रिपोर्ट में शामिल ज्यादातर सामग्री ऐसी हैं, जिन्हें यूजर्स द्वारा बताने से पहले कंपनी ने खुद चिन्हित किया।

यह भी पढ़ें: फेसबुक की COO शेरिल सैंडबर्ग ने दिया इस्तीफा, जेवियर ओलिवन को मिली कमान

इसी तरह इंस्टाग्राम ने अप्रैल में 77 हजार हिंसक और उकसावे वाली सामग्रियों पर कार्रवाई की। जबकि मार्च में यह आंकड़ा महज 41 हजार 300 था। इस रिपोर्ट से सवाल उठता है कि क्या सोशल मीडिया का इस्तेमाल लोगों को नाफरती और हिंसक बना रहा है?

मेटा ने बताया है कि शेयर होने वाली पोस्ट जैसे फोटो, वीडियो या टिप्पणियों की संख्या की हम जांच करते हैं। अगर यह हमारे मानकों के खिलाफ होता है तो हम इसपर कार्रवाई करते हैं। इस कार्रवाई में फेसबुक या इंस्टाग्राम के पोस्ट को निकालना या उन तस्वीरों या वीडियो को कवर करना शामिल हो सकता है।

बता दें कि इससे पहले यूट्यूब की रिपोर्ट भी सामने आई थी। यूट्यूब ने कहा है कि उसने जनवरी-मार्च की तिमाही में 11 लाख वीडियो अकेले सिर्फ भारत में अपने डिजिटल प्लेटफार्म से हटाए हैं। जो दुनिया में भ्रामक और फर्जी जानकारी के कारण हटाए गए वीडियो में सर्वाधिक है। ऐसे कंटेंट से जुड़े 90 फीसदी से ज्यादा चैनल को भी ब्लॉक कर दिया गया है। यूट्यूब का कहना है कि उसने तिमाही में 44 लाख चैनल दुनिया भर में अपने प्लेटफार्म से हटाए हैं।