भारी पड़ी लापरवाही, इंदौर में 17 नए केस

मप्र में कोरोना वायरस के प्रति बरती गई लापरवाहियों का असर है कि मंगलवार को रिपोर्ट में इंदौर में 17 नए केस सामने आए हैं। सोमवार को इंदौर और उज्जैन में कोरोना के 8 नए मामले सामने आए थे।

Publish: Mar-31, 2020, 12:13 PM IST

भारी पड़ी लापरवाही, इंदौर में 17 नए केस
lockdown breaking indore

इंदौर।

एमजीएम मेडिकल कॉलेज इंदौर की वायरोलॉजी लैब में कोरोना की जांच के लिए बड़ी संख्या में सैंपल पहुंचने के बाद जांच के लिए रविवार को 40 सैंपल भोपाल एम्स भेजे गए, जबकि यहां भी 70 सैंपल की जांच की गई। सीएमएचओ के अनुसार इंदौर से भेजे गए सैंपल में 17 नए केस सामने आए हैं। इनमें इंदौर, उज्जैन सहित मालवा-निमाड़ के अन्य जिलों के मरीज शामिल हो सकते हैं। अभी पूरी डिलेट नहीं आई है। यदि ऐसा होता है तो इंदौर में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा 49 पहुंच जाएगा। वहीं, प्रदेश में यह संक्रमितों की संख्या 64 हो गई है। अभी इंदौर में 27, उज्जैन में 5, जबलपुर में 8, भोपाल में 3, ग्वालियर में 2 तथा शिवपुरी में 2 संक्रमित हैं।

सोमवार को दो की मौत

कोरोना संक्रमण के कारण सोमवार को इंदौर में दो और लोगों की मौत हुई। चंदन नगर निवासी 49 वर्षीय महिला ने देर रात दम तोड़ दिया। इससे पहले दिन में एमआर-9 की राजकुमार कॉलोनी के 41 साल के व्यक्ति की मौत हो गई थी। दोनों ही एमआर टीबी अस्पताल में भर्ती थे। इसके पहले इंदौर में एक तथा उज्जैन में दो संक्रमितों की मौत हो चुकी हे। इस तरह मध्‍य प्रदेश में संक्रमण से अब तक कुल 5 लोगों की मौत हुई है।

लॉकडाउन तोड़ा, लापरवाही पड़ी भारी

इंदौर 24 मार्च तक कोरोना मुक्त रहा था मगर अब देश में सबसे संक्रमित शहरों की सूची में आठवें नंबर पर आ गया है। इंदौर में संक्रमितों की संख्या बढ़ने की वजह लॉकडाउन का पालन न करने को माना जा रहा है। जनता कर्फ्यू वाले दिन ही शाम के समय शहर के सैकड़ों नागरिकों की भीड़ ऐतिहासिक राजबाड़ा पर जमा हो गई थी।  अन्य सभी प्रमुख संक्रमित जगहों पर  संक्रमण के प्राथमिक स्रोत की जानकारी मिल गई। लेकिन, इंदौर में अभी तक किसी भी संक्रमित के विदेश जाने या उनके संपर्क में आने की जानकारी सामने नहीं आई है। 

8 पॉजिटिव में 5 मरीजों की कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं

एमजीएम मेडिकल कॉलेज से सोमवार को जारी बुलेटिन में बताया गया कि, पॉजिटिव पाए गए 8 मरीजों में से 3 मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री है, जबकि शेष 5 मरीजों की कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है।