भोपाल में एक ही घर में शादी करने पहुंचे सात दूल्हे, घर में लटका मिला ताला तब हुआ शादी रैकेट का भंडाफोड़

शुगुन जन कल्याण समिति पर शादी का झांसा देकर लोगों से पैसे की उगाही करने का आरोप है, पुलिस ने संस्था के संचालकों पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है

Updated: Mar 28, 2021, 09:53 AM IST

भोपाल में एक ही घर में शादी करने पहुंचे सात दूल्हे, घर में लटका मिला ताला तब हुआ शादी रैकेट का भंडाफोड़
Photo Courtesy: Inext Live

भोपाल। शुक्रवार को भोपाल स्थित कोलार के एक ही घर में सात दूल्हे पहुंच गए। ये सभी शादी करने एक ही घर में पहुंचे थे। सभी दूल्हे पूरे धूम धाम के साथ बारात लेकर पहुंचे थे। लेकिन जैसे ही उन्होंने घर पर ताला जड़ा हुआ देखा, वे हैरान रह गए। शादी करने आए सभी दूल्हे एक ठगी का शिकार हो गए थे। 

दरअसल शादी कराने का दावा करने वाली संस्था शगुन जन कल्याण समिति ने इन सभी सात दूल्हों के बीस बीस हजार रूपए की ठगी की है। संस्था के संचालकों पर आरोप है कि उन्होंने लड़कों को लड़कियों से मिलवा कर शादी करवाने का एक प्रपंच रचा। लेकिन शादी के दिन जब दूल्हे वहां पहुंचे तब न तो लड़कियां वहां पर थी और न ही लड़कियों के परिवार का कोई सदस्य था। 

शुक्रवार को कोलार शादी करने पहुंचने वाले सात दूल्हों में से दो आगरा से आए थे, एक शिवपुरी और एक भिंड से आए थे। बाकी तीन दूल्हे शादी के नाम पर ठगी की बात सामने आने पर वापस चले गए।

यह भी पढ़ेंहोमगार्ड पुष्पराज के शव मिलने से पहले हुई थी अस्पताल के शौचालय की सफाई, होमगार्ड मौत मामले में जेपी अस्पताल की बड़ी लापरवाही

 ठगी के शिकार केशव बघेल के मुताबिक तीन महीने पहले भिंड में उनके बहनोई ने बस स्टैंड पर शगुन जन कल्याण का पर्चा देखा था। पर्चे पर दावा किया गया था कि ये संस्था गरीब बच्चियों की शादी कराती है। पर्चे पर अंकित नंबरों पर कॉल किया तो रोशनी तिवारी नामक महिला ने 16 जनवरी को कोलार के विनीत कुंज स्थित ऑफिस में मिलने के लिए बुलाया। केशव का कहना है कि ऑफिस में उस समय उन्हें 25 वर्षीय लड़की दिखाई गई। रिश्ता तय हुआ लेकिन जब वे कोलार में बताए गए ठिकाने पर पहुंचे तब तक वे ठगी के शिकार हो चुके थे। केशव के साथ साथ जितने भी लड़के ठगी के शिकार हुए उनके साथ आरोपियों ने यही प्रक्रिया अपनाई।

पुलिस ने इस पूरे मामले में संस्था की रोशनी तिवारी, रिंकू तिवारी और कुलदीप पर मामला दर्ज किया है। तीनों मिलकर शादी का रैकेट चलाते थे।प्राप्त जानकारी के अनुसार यह संस्था लड़कियों से संपर्क साध कर उन्हें शादी का झांसा दिया करती थी। जब आरोपी लड़कों से शादी के नाम पर पैसे की उगाही कर लेते थे, तब ये लड़कियों को को कह देते थे कि लड़के ने शादी करने से इनकार कर दिया है लेकिन कंपनी की यह ठगी ज़्यादा दिन तक नहीं चल पाई। कोलार थाने की पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी तलाश करनी शुरू कर दी है।