दादी ने फोन चलाने से किया मना तो बच्ची ने की खुदकुशी, फंदे से लटकी मिली नाबालिग की लाश

भोपाल के कोलार थाना क्षेत्र का मामला, बुधवार रात फोन में गेम खेल रही थी बच्ची, दादी ने फोन न चलाने की दी थी सलाह, गुस्से में आकर बच्ची ने ले ली खुद की जान

Updated: Sep 09, 2021, 04:38 PM IST

दादी ने फोन चलाने से किया मना तो बच्ची ने की खुदकुशी, फंदे से लटकी मिली नाबालिग की लाश

भोपाल। मध्य प्रदेश में नाबालिग बच्चों में लगातार आत्महत्या मामले बढ़ रहे हैं। राजधानी भोपाल में दादी ने अपनी पोती को जब फोन चलाने से मना किया तो बच्ची ने फंदे से लटक कर आत्महत्या कर ली। परिजनों को बच्ची के खुदकुशी करने की बात एक घंटे बाद पता चली। बच्ची को परिजन तुरंत अस्पताल लेकर गए, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।  

कोलार रोड पर अपने परिवार के साथ रहने वाली 12 वर्षीय बच्ची दुर्गा कल रात अपने फोन में गेम खेल रही थी। दुर्गा की दादी ने जब उसे फोन चलाते हुए देखा तो दुर्गा को तुरंत ही फोन छोड़ने के लिए कहा। दादी ने बस इतना ही कहा था कि क्या हमेशा फोन में लगी रहती हो, पढ़ाई पर भी ध्यान दिया करो।  

लेकिन दादी की यह बात बच्ची को इतनी चुभ गई कि उसने अपने कमरे में जा कर दुपट्टे से फांसी लगा लिया। इस दौरान परिवार के लोग बाहर बैठे हुए थे। रात करीब ग्यारह बजे परिवार के लोग जब बच्ची के कमरे में दाखिल हुए तब बच्ची को फंदे से लटका हुआ देख उनके होश उड़ गए। आनन-फानन में बच्ची को जेपी अस्पताल ले जाया गया। लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक बच्ची चौथी कक्षा में पढ़ती थी। उसका स्कूल अभी ऑनलाइन चल रहा था। इसलिए बच्ची के पिता ने उसे फोन खरीद कर दिया था। लेकि न बच्ची ऑनलाइन क्लास करने के बाद भी फोन चलाती रहती थी और गेम खेला करती थी। इसीलिए बच्ची की दादी ने उसे फोन न चलाने के लिए कहा था। 

यह भी पढ़ें ः 3 साल में एमपी में 3000 किशोरों ने की आत्महत्या, पूरे देश में ख़ुदकुशी के सबसे ज्यादा मामले

बच्चों में आत्महत्या के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। और सबसे दुखद बात यह है कि किशोरों की आत्महत्या के मामले में मध्य प्रदेश अव्वल है। बीते तीन सालों में मध्य प्ररदेश में तीन हज़ार से ज़्यादा किशोरों ने आत्महत्या की है। मध्य प्रदेश में तीन सालों की अवधि में 3 हज़ार 115 बच्चों की आत्महत्या का आंकड़ा सामने आया था। लेकिन इस समय भी लगातार आत्महत्या के मामले सामने आ रहे हैं। जो कि बेहद चिंताजनक है।