भोपाल में मनचलों का दुस्साहस: महिला पर किया ब्लेड से हमला, 118 टांके लगे, कांग्रेस ने उठाए सवाल

छेड़खानी का विरोध करने पर मनचलों ने महिला के चेहरे पर मारी ब्लेड, 118 टांके लगे, पुलिस ने मामूली धाराओं में केस दर्ज किए, कांग्रेस ने उठाए सवाल

Updated: Jun 11, 2022, 07:10 PM IST

भोपाल में मनचलों का दुस्साहस: महिला पर किया ब्लेड से हमला, 118 टांके लगे, कांग्रेस ने उठाए सवाल

भोपाल। राजधानी भोपाल में मनचलों का दुस्साहस कम होने का नाम नहीं ले रहा। राजधानी में की सड़कों पर महिलाओं का रात में निकलना मुश्किल हो गया है। रोड पर गुंडे सरेआम छेड़छाड़ करते हैं और विरोध करने पर जानलेवा हमला करने से भी बाज नहीं आते। ऐसा ही एक मामला गुरुवार को सामने आया जब गुंडों ने महिला के चेहरे पर ब्लेड मार दी। महिला को 118 टांके लगे हैं।

जानकारी के मुताबिक पीड़िता सीमा सोलंकी अपने परिवार के साथ शिवजी नगर में रहती है। 9 जून की रात करीब साढ़े 8 बजे वह अपने पति के साथ होटल से पानी की बोतल खरीदने गई थी। पति होटल के अंदर पानी की बोतल लेने गए थे और वो बाहर बाइक के साथ खड़ी थी। इतने में ऑटो सवार तीन मनचले आए और सीटी बजाकर अश्लील कमेंट करने लगे। सीमा ने गुस्से जब इसका विरोध किया तो मनचले गाली गलौज करने लगे। 

यह भी पढ़ें: UP पुलिस की क्रूरता: मुस्लिम युवाओं के साथ थर्ड डिग्री टॉर्चर, नौजवानों की चीख पर BJP MLA का अट्टहास

इस बार पर गुस्साई सीमा ने एक लड़के को दो थप्पड़ मार दिए। मौके पर भीड़ जमा होने के बाद तीनों मनचले से फरार हो गए। थोड़ी देर बाद जैसे ही दोनों दंपत्ति होटल के आगे बढ़े की उनका पीछा कर रहे युवकों ने ब्लेड से हमला किया। हमला इतना जोरदार था कि सीमा मौके पर ही बेहोश हो गई। जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उनके चेहरे से गले तक कुल 118 टांके लगे हुए हैं।

मामले पर कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने सीएम चौहान को निशाने पर लेते कहा कि जब राजधानी भोपाल में ये हाल है तो अन्य जगहों पर क्या होगी। इस घटना में पुलिस की लापरवाही भी सामने आ रही है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मामूली धारा में केस दर्ज किया है और अबतक कोई ठोस कार्रवाई भी नहीं की है। पीड़िता के पति सुनील सोलंकी ने पुलिस के रवैए पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस तरह से अपराधियों का दुस्साहस बढ़ता ही जाएगा और आए दिन ऐसी घटनाएं सामान्य हो जाएंगीं। पीड़ित महिला ने कहा कि आरोपियों को सजा तो मिलनी चाहिए। ऐसी सजा मिले कि दोबारा किसी के साथ वे ऐसी हरकत न कर सकें।