सफाई देने पहुँचे डामोर से नहीं मिले वीडी शर्मा, कांग्रेस बोली वॉशिंग मशीन में धुलने आये थे

झाबुआ सांसद गुमान सिंह डामोर आज वीडी शर्मा से मिलने प्रदेश मुख्यालय पहुँचे थे, लेकिन प्रदेश अध्यक्ष ने मुलाकात के लिये उन्हें दो मिनट का समय भी नहीं दिया

Publish: Dec 28, 2021, 03:24 PM IST

सफाई देने पहुँचे डामोर से नहीं मिले वीडी शर्मा, कांग्रेस बोली वॉशिंग मशीन में धुलने आये थे

भोपाल। 600 करोड़ के घोटाले के आरोपों से घिरे बीजेपी सांसद गुमान सिंह डामोर बीजेपी के लिये गले की फांस बन गये हैं। यही वजह है कि मंगलवार को जब वे वीडी शर्मा से मिलने पहुँचे तब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने उन्हें मुलाकात का समय तक देना मुनासिब नहीं समझा। प्रदेश कार्यालय से बाहर निकलने के बाद जब भाजपा सांसद को मीडिया ने घेर लिये, तो वे बिना किसी सवाल का जवाब दिये ही मीडिया की कैमरों से बच निकले। 

गुमान सिंह डामोर पर 600 करोड़ के घोटाले के आरोप में आईपीसी की विभिन्न धाराओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। अगले महीने भाजपा सांसद को इस मामले में कोर्ट में हाजिरी भी लगानी है। घोटाले के मामले में सांसद पर मुकदमा दर्ज होने के बाद बीजेपी की काफी किरकिरी भी हो रही है। ऐसे में मंगलवार को बीजेपी सांसद खुद इस मामले में सफाई देने के लिये बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष से मिलने पहुँचे लेकिन वीडी शर्मा ने सांसद की सफाई सुनने के लिये दो मिनट का वक्त भी नहीं दिया।  

 बीजेपी सांसद के मीडिया के कैमरों से बचकर भागते हुए क्षण का वीडियो साझा करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि 600 करोड़ के भ्रष्टाचार के आरोपी भाजपा सांसद गुमान सिंह ड़ामोर किस प्रकार मीडिया से भाग रहे हैं,सवालों का जवाब तक नही दे पा रहे हैं। शायद आज भाजपा कार्यालय में लगी वॉशिंग मशीन में धुलकर ईमानदार होने आये थे। सलूजा ने डामोर के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि उनके इस भ्रष्टाचार पर पूरी भाजपा मौन क्यों है, अभी तक उनका इस्तीफ़ा क्यों नहीं लिया गया?

क्या है मामला 
दरअसल अलीराजपुर कोर्ट में झाबुआ सांसद सहित अलीराजपूर के तत्कालीन कलेक्टर गणेश शंकर मिश्रा और अन्य अधिकारियों के ऊपर 600 करोड़ के घोटाले का मामला दर्ज हुआ है। आरोपों के मुताबिक 2006-07 में जब गुमान सिंह डामोर फ्लोरोसिस परियोजना में कार्यापालन यंत्री के तौर पर पदस्थ थे, तब उन्होंने कथित तौर पर अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर विभिन्न परियोजना के नाम पर 600 करोड़ के घोटाले को अंजाम दिया। इस घोटाले में अलीराजपुर के तत्कालीन कलेक्टर गणेश शंकर मिश्रा पर भी संलिप्त होने का आरोप है। गणेश शंकर मिश्रा मौजूदा वक्त में मध्य प्रदेश विद्युत मंडल में एमडी के पद पर तैनात हैं। 

यह भी पढ़ें ः भाजपा सांसद डामोर पर कोर्ट ने किया मुकदमा दर्ज, 600 करोड़ के घोटाले का आरोप

रिपोर्ट्स के मुताबिक फ्लोरोसिस परियोजना सहित विभिन्न परियोजनाओं के मद्देनज़र राशि की तो निकासी कर ली गयी, लेकिन आदिवासी क्षेत्र में किसी तरह का काम नहीं हुआ। इंदौर के पत्रकार धर्मेंद्र शुक्ला ने इस पूरे घोटाले को उजागर किया और भाजपा नेता के अलावा तमाम आरोपी अधिकारियों के खिलाफ न्यायालय का रुख किया। इसी क्रम में शुक्ला ने अलीराजपुर के न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष याचिका दाखिल कर भ्रष्टाचार से संबंधित तमाम दस्तावेज़ उपलब्ध कराये। जिसके बाद तमाम आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कर 17 जनवरी को पेशी का फरमान सुना दिया गया।