प्रॉपर्टी विवाद में गई पुलिसकर्मी की जान, हत्यारों ने जंगल में दफनाया हेड कॉन्सटेबल का शव

छिंदवाड़ा के चांद थाने में पदस्थ थे मृतक पुलिसकर्म, तीन दिन से थे लापता, सिवनी ज़िले के सेलुआ घाटी के जंगल में पुलिस ने बरामद किया शव

Updated: Sep 23, 2021, 07:14 PM IST

प्रॉपर्टी विवाद में गई पुलिसकर्मी की जान, हत्यारों ने जंगल में दफनाया हेड कॉन्सटेबल का शव
Photo Courtesy : Dainik Bhaskar

छिंदवाड़ा। मध्य प्रदेश में अपराधियों के हौसले इन दिनों इतने बुलंद हैं कि छिंदवाड़ा में एक पुलिसकर्मी तक की हत्या कर दी गई। चांद थाने में पदस्थ हेड कॉन्सटेबल तीन दिन से लापता थे। गुरुवार को उनका शव सिवनी ज़िले के सेलुआ घाटी के जंगल में मिला है। पुलिसकर्मी की हत्या के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हत्यारों के कबूलनामे के बाद ही पुलिस को मृतक हेड कॉन्सटेबल का शव बरामद हो पाया।  

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक छिंदवाड़ा के चांद थाने में एएसआई विजय बघेल की हत्या प्रॉपर्टी विवाद के चलते की गई है। प्रॉपर्टी के रजिस्ट्रेशन में देरी होने के कारण एएसआई बघेल का अपने ही परिचित प्रॉपर्टी डीलर से विवाद हो गया। जिसके बाद प्रॉपर्टी डीलर ने अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर मृतक की हत्या कर दी। इतना ही नहीं कानून की नज़रों से बचने के लिए हत्यारे हेड कॉन्सटेबल के शव को जंगल में दफना आए। 

यह भी पढ़ें ः सड़क पर डॉगी को टायलेट करवाया तो लगेगा जुर्माना, 1000 रुपए भरें, नहीं तो खुद साफ करें गंदगी

यह वाकया 20 सितंबर का है। विजय बघेल ने हाल ही में सिवनी ज़िले के रहने वाले अपने एक परिचित प्रॉपर्टी डीलर से 57 लाख में प्रॉपर्टी का सौदा किया था। बघेल लगातार प्रॉपर्टी का जल्द से जल्द से रजिस्ट्रेशन कराने की मांग कर रहे थे। लेकिन प्रॉपर्टी डीलर लगातार हेड कॉन्सटेबल की बात को टाले जा रहा था। 20 सितंबर को गायत्री नगर में स्थित प्रॉपर्टी डीलर के कार्यालय में जब विजय बघेल पहुंचे तब ज़मीन की रजिस्ट्री को लेकर ही प्रॉपर्टी डीलर सहित अन्य दो लोगों से विवाद हो गया। इस दौरान तीनों ने मिलकर हेड कॉन्सटेबल को पीटना शुरू कर दिया। जिसमें पुलिसकर्मी की मौत हो गई।  

यह भी पढ़ें ः सिंधिया ने अपने मुंह से मास्क खोलकर पूर्व मंत्री के मुंह में लगा दिया, कांग्रेस बोली- ये रिसर्च का विषय है

विजय बघेल की हत्या करने के बाद तीनों उनके शव को पुलिसकर्मी की ही गाड़ी में डालकर छिंदवाड़ा के उत्सव रिज़ोर्ट ले गए। वहां पर हत्यारों ने विजय बघेल की गाड़ी और फोन छोड़ दिया। इसके बाद वे शव को अपने साथ सिवनी ज़िले के बम्होडी गांव के पास जंगल में ले गए। और हत्यारों ने शव को चार फीट गड्ढे में दफना दिया।  

इधर विजय बघेल की गुमशुदगी की खबर आग की तरह फैल गई। शुरुआत में सभी को यही लगा कि बघेल उत्सव रिज़ोर्ट से गायब हुए हैं। लेकिन जैसे ही पुलिस ने बघेल के फोन में कॉल डिटेल्स को खंगाला पुलिस दो संदिग्ध लोगों तक पहुंच गई। पुलिस ने आखिरकार तीनों को अपनी पकड़ में ले लिया। पूछताछ के दौरान तीनों ने अपना जुर्म कबूल लिया और साथ ही साथ पूरे घटनाक्रम की जानकारी भी पुलिस को दे दी। कबूलनामे के बाद जब पुलिस हत्यारों द्वार बताई जगह पर पहुंची तो विजय बघेल का शव वाकई में गड्ढे में गड़ा हुआ मिला।