होर्डिंग पोस्टर के चक्कर में रहे तो कोई भटे के भाव भी नहीं पूछेगा, बीजेपी पदाधिकारियों को सीएम की हिदायत

सीएम ने भाजपा के पदाधिकारियों को खुली छूट देते हुए कहा कि अपनी सरकार है, इसलिए डरने की ज़रूरत नहीं है

Updated: Sep 09, 2021, 05:38 PM IST

होर्डिंग पोस्टर के चक्कर में रहे तो कोई भटे के भाव भी नहीं पूछेगा, बीजेपी पदाधिकारियों को सीएम की हिदायत

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को राजधानी भोपाल में पार्टी के पदाधिकारियों की बैठक ली। इस दौरान सीएम शिवराज ने पार्टी के पदाधिकारियों को खुद के प्रचार में मशगूल न रहने की हिदायत दी। सीएम ने कहा कि अगर होर्डिंग और पोस्टर के चक्कर में रहोगे तो कोई भटे के भाव भी नहीं पूछेगा। सीएम की इस हिदायत को कांग्रेस को दगा देकर भाजपा में गए ज्योतिरादित्य सिंधिया को दिए गए संदेश के तौर पर भी देखा जा रहा है।  

शनिवार को भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की मौजूदगी में पार्टी के पदाधिकारियों के साथ बैठक हुई। बैठक में पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सभी कार्यकर्ताओं को सरकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने के काम में लग जाना चाहिए। क्योंकि अब स्वागत का दौर चला गया है। ये दौर काम का है। 

मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार का काम पार्टी कार्यकर्ताओं के हाथों में सौंपने की बात कहते हुए कहा कि मैं सरकार का काम आप लोगों के हाथों में सौंपना चाहता हूं। हम अकेले काम नहीं करेंगे। आप लोग भी काम संभालें। सरकार और संगठन मिलकर काम करेंगे। सीएम ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को खुली छूट देते हुए कहा कि अपनी सरकार है काहे का डरना। सीएम ने पार्टी को मज़बूती प्रदान करने हेतु सुझाव देते हुए कहा कि हमें पंचायत स्तरों पर अपनी टीम खड़ी करनी चाहिये। अगर हम पंचायत स्तर पर मज़बूत टीम खड़ी कर लेंगे तो हमें कोई हरा नहीं सकता। 

सीएम ने मोर्चा और प्रकोष्ठों की टीम गठन में देरी  को लेकर भी सवाल खड़ा किया। शिवराज ने कार्यकर्ताओं को आगाह करते हुए कहा कि अगर हम कल पर कोई काम छोड़ेंगे तो सारा समय गठन में ही लग जाएगा और चुनाव आ जाएंगे। वीडी शर्मा ने पार्टी के पदाधिकारियों से से उपचुनावों की तैयारियां शुरू करने पर ज़ोर दिया। वीडी शर्मा ने कहा कि अगर हम पूरी ताकत के साथ चुनाव में उतर जाएं तो हम चुनाव नहीं हारेंगे। मध्य प्रदेश में विधानसभा की तीन सीटों और खंडवा की लोकसभा सीट पर उपचुनाव होने हैं।