नगरीय निकाय चुनाव में हार के डर से बीजेपी ने टाला चुनाव,‌ कांग्रेस ने बीजेपी और मुख्यमंत्री पर साधा निशाना

राज्य निर्वाचन आयोग ने कोरोना के बढ़ते मामलों का हवाला देकर नगरीय चुनाव और पंचायत निर्वाचन को आगामी तीन महीने के लिए स्थगित कर दिया है

Updated: Dec 27, 2020, 04:29 PM IST

नगरीय निकाय चुनाव में हार के डर से बीजेपी ने टाला चुनाव,‌ कांग्रेस ने बीजेपी और मुख्यमंत्री पर साधा निशाना
Photo Courtesy: India tv

भोपाल। मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव और पंचायत निर्वाचन को फरवरी 2021 तक स्थगित कर दिया है। निर्वाचन आयोग ने अपने आदेश में कहा है कि यह फैसला कोरोना के बढ़ते मामलों को दृष्टिगत रखते हुए लिया गया है लेकिन कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई ने कहा है कि चुनावों को स्थगित करने का फैसला  बीजेपी ने चुनावों में अपनी हार के डर से लिया है। 

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में नगर निकाय चुनाव फिर टला, कोरोना के कारण निर्वाचन आयोग ने लिया फैसला

शिवराज जी याद रखना, उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है 

कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल पर बीजेपी और मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा है बीजेपी अपनी करारी हार की रिपोर्ट से डर गई है, कोरोना तो केवल बहाना है। कांग्रेस ने कहा कि पैसे और प्रशासन के दुरुपयोग पर उपचुनाव जीतने वाली बीजेपी को नगरीय निकाय चुनावों में करारी हार की रिपोर्ट ने चुनाव टालने पर मजबूर कर दिया। कांग्रेस ने आगे कहा कि शिवराज जी याद रखना, उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। 

दरअसल राज्य निर्वाचन ने आयोग ने कुल 407 सीटों पर होने वाले चुनावों को कोरोना के बढ़ते मामलों का हवाला देकर फरवरी 2021 तक स्थगित कर दिया। पहले ये चुनाव दिसंबर 2020 से जनवरी 2021 तक आयोजित किए जाने थे। लेकिन अब ये चुनाव फरवरी 2021 के बाद आयोजित किए जाएंगे। 

यह भी पढ़ें : गद्दारों को नगर निगम चुनाव में टिकट नहीं देगी कांग्रेस

राज्य के कुल 407 नगरीय निकायों में से 307 का कार्यकाल 24 सितंबर को ही समाप्त हो गया है, साथ ही 08 नगरीय निकायों का कार्यकाल जनवरी एवं फरवरी-2021 में पूर्ण हो रहा है। इसके अलावा त्रि-स्तरीय पंचायतों में पंच, सरपंच, जनपद सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्यों का कार्यकाल मार्च-2020 में ही समाप्त हो चुका है। इन निकायों के साथ नवगठित 29 नगर परिषदों का निर्वाचन भी सम्पन्न कराया जाना है।