MP By Elections: चुनाव आयोग पर प्रदर्शन करेगी कांग्रेस, पुलिस-प्रशासन पर लगाया बीजेपी के लिए काम करने का आरोप

MP Congress: कांग्रेस का आरोप, बार-बार शिकायत करने के बाद भी नहीं हो रही है कार्रवाई, चुनाव प्रक्रिया पर पड़ रहा है सरकार और प्रशासन की मिलीभगत का असर

Updated: Oct 27, 2020, 09:27 AM IST

MP By Elections: चुनाव आयोग पर प्रदर्शन करेगी कांग्रेस, पुलिस-प्रशासन पर लगाया बीजेपी के लिए काम करने का आरोप
Photo Courtesy: News18

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कल राजधानी भोपाल स्थित निर्वाचन आयोग के कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन करेगी। कांग्रेस का आरोप है कि सरकार और प्रशासन की मिलीभगत से चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित किया जा रहा है। पार्टी नेताओं ने इस बारे में निर्वाचन आयोग से कई बार शिकायत भी की है। इसके बावजूद आयोग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। लिहाजा कांग्रेस कार्यकर्ता अब निर्वाचन भवन में विरोध प्रदर्शन करेंगे।

मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष व पूर्व सीएम कमलनाथ ने सोमवार को मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को पत्र लिखकर मध्य प्रदेश में निर्वाचन आयोग की कार्यशैली पर सवाल उठाया है। कांग्रेस नेता ने प्रदेश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए आवश्यक कदम उठाने की मांग की है। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी चार पन्ने की चिट्ठी में बताया है कि डिप्टी कलेक्टर से लेकर थाना प्रभारी तक किस तरह सरकार से मिले हुए हैं और बीजेपी के लिए काम कर रहे हैं। यही नहीं अधिकारियों द्वारा कांग्रेस कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न भी किया जा रहा है।

बता दें कि राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में हाल ही में कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल ने चुनाव आयुक्त से मुलाकात की थी और प्रदेश में निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग की थी। इसके बाद भी उचित कार्रवाई न होने पर दिग्विजय सिंह ने मध्य प्रदेश की मुख्य निर्वाचन अधिकारी वीणा राव से मुलाकात की थी। इस दौरान कांग्रेस नेता ने प्रदेश में बड़े पैमाने पर हो रही गड़बड़ियों की शिकायत की थी और उन अधिकारियों की लिस्ट भी सौंपी थी, जो चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित कर रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने एडीजी भोपाल समेत कई ऐसे अधिकारियों के तबादले की मांग भी की थी, अपना दायित्व निष्पक्ष ढंग से नहीं निभा रहे हैं। 

दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान मुख्य चुनाव अधिकारी ने कांग्रेस को भरोसा दिलाया था कि उनकी शिकायतों पर गौर करके ज़रूरी कार्रवाई की जाएगी। लेकिन इसके बावजूद उपचुनाव वाले कई क्षेत्रों से ऐसी शिकायतें मिलती रहीं जिनमें बीजेपी प्रत्याशियों और कार्यकर्ताओं को प्रशासनिक संरक्षण दिए जाने की बात साफ तौर पर नज़र आ रही है।निर्वाचन आयोग के इस ढुलमुल रवैए को लेकर कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं में आक्रोश है। मंगलवार को भोपाल के निर्वाचन आयोग के दफ्तर पर कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं का प्रस्तावित विरोध प्रदर्शन इसी नाराज़गी का नतीजा है।