Imarti Devi: तीन बार कांग्रेस से चुनी गईं, अब डबरा से बीजेपी के टिकट पर मैदान में इमरती देवी

Dabra By poll 2020: डबरा से कांग्रेस के टिकट पर तीन बार विधायक चुनीं गई इमरती देवी, चौथी बार बीजेपी खेमे से उपचुनाव मैदान में

Updated: Sep-22, 2020, 06:26 PM IST

Imarti Devi: तीन बार कांग्रेस से चुनी गईं, अब डबरा से बीजेपी के टिकट पर मैदान में इमरती देवी
Photo Courtesy: Ampinity News

ग्वालियर। उपचुनाव की 28 सीटों में सबसे हाई प्रोफाइल माने जाने वाली सीटों में से एक है ग्वालियर जिले की डबरा विधानसभा सीट। उपचुनाव की तारीखों की घोषणा से पहले ही यह सीट सुर्खियों में हैं। यहां सिंधिया समर्थक इमरती देवी चुनाव मैदान में हैं। वे तीन बार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीत चुकी हैं। ऐसा पहली बार है कि वे बीजेपी के टिकट पर चुनाव मैदान में होंगी। एक बार फिर उनकी चुनावी टक्कर उनके समधी सुरेश राजे से होने वाली है।

आगामी उपचुनाव में बीजेपी के टिकट पर मैदान में उतरने वाली इमरती देवी अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहती हैं। 14 अप्रैल 1975 को जिला दतिया के ग्राम चरबरा में जन्मी इमरती देवी का कहना है कि वे गोबर में पैदा हुईं हैं, ग्रामीण परिवेश से उनका गहरा नाता है। उन्होने अपने शुरुआती दिनों में खेतों में काम किया है। हायर सेकेंडरी तक पढ़ी इमरती देवी का मुख्य व्यवसाय कृषि है। ये महिला उत्थान, समाज-सेवा और पर्यटन-स्थलों के भ्रमण में विशेष रूचि रखती हैं।

Click: Imarti devi: अंडा पॉलिटिक्स में मंत्री इमरती देवी के विरोध में उतरा जैन समाज

कांग्रेस के टिकट पर डबरा से तीन बार विधानसभा का चुनाव जीता

इमरती देवी साल 2004-2009 में जिला पंचायत ग्वालियर की सदस्य, कृषि उपज मंडी ग्वालियर की संचालक एवं सदस्य रहीं है। साल 2008 में 13वीं विधानसभा की सदस्य के रूप में निर्वाचित हुईं। वे साल 2008 से 2011 तक पुस्तकालय समिति की सदस्य रहीं। साल 2011 से 2014 तक महिला एवं बालकों के कल्याण संबंधी समिति की सदस्य के रूप में काम किया। इमरती देवी ने अनुसूचित जाति/जनजाति हित रक्षा संघ की संरक्षक भी रहीं हैं। साल 2013 में इमरती देवी दूसरी बार ग्वालियर जिले के डबरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुनीं गईं। 2018 में तीसरी बार 15वीं विधानसभा में डबरा से तीसरी बार विधायक निर्वाचित हुईं।

2008 में इमरती देवी ने बीएसपी के हरगोविंद जौहरी को 10630 वोटों से हराया था।  वहीं साल 2013 में कांग्रेस की इमरती देवी ने बीजेपी के सुरेश राजे को 33278 वोटों से हराया था। साल 2018 के विधानसभा चुनाव में इमरती देवी ने बीजेपी के कप्तान सिंह को 57 हज़ार वोट से हराया था।

Click: Imarti Devi: हम जो कहेंगे, कलेक्टर हमें वो सीट जिताकर देगा

बीजेपी और कांग्रेस सरकार में महिला बाल विकास विभाग का मिला जिम्मा

कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार में इमरती देवी मंत्री बनीं। 25 दिसंबर 2018 को मंत्री-मंडल में मंत्री पद की शपथ ग्रहण की। उन्होंने तत्कालीन कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में महिला एंव बाल विकास विभाग की जिम्मेदारी उठाई। इसके बाद मार्च 2020 में ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के बाद उन्होंने भी कांग्रेस छोड़कर बीजेपी की सदस्यता ले ली।  2 जुलाई 2020 को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्री-मंडल में इमरती देवी को मंत्री पद मिला। वर्तमान में वे मध्यप्रदेश की महिला एवं बाल विकास विभाग के मंत्री के रूप में कार्य कर रही हैं। आगामी उपचुनाव में उन्हे बीजेपी के टिकट पर डबरा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ना है।

माधवराव सिंधिया के कहने पर राजनीति में आईं

कांग्रेस नेता माधवराव सिंधिया के कहने पर इमरती देवी राजनीति में आई थीं। माधवराव सिंधिया के निधन के बाद अब ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रति वफादारी निभाती नजर आती हैं। वे मंत्री रहते हुए सार्वजनिक रूप से ज्योतिरादित्य सिंधिया की चरण वंदना करते नजर आ चुकी हैं। कमलनाथ सरकार की तत्कालीन चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉक्टर विजयलक्ष्मी साधौ के घर पर इमरती देवी ने सिंधिया के पैर छुए थे।

Click: Dabra By Poll 2020: डबरा सीट पर 2008 से कांग्रेस का कब्जा, अब इमरती देवी बीजेपी से उम्मीदवार

सिंधिया भक्त हैं इमरती देवी

डबरा विधायक होते हुए इमरती देवी ने एक बार सार्वजनिक तौर पर बयान दिया कि वे महाराज के कहने पर झाडू भी लगा सकती हैं। उनके इस बयान के बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी। सिंधिया के साथ उनकी वफादारी का ही नतीजा था कि वे सिंधिया के साथ बीजेपी में शामिल हो गई और अब एक बार फिर डबरा की जनता के सामने चुनावी मैदान में हैं। लेकिन इस बार वे कमल के फूल के नाम पर जनता से वोट मांगेंगी। और उसी बीजेपी का प्रचार करेंगी जिसे पिछले चुनाव में पानी पी पीकर कोसा करती थीं। 

विवादित बयानों से बटोरती हैं सुर्खियां

इमरती देवी अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहती हैं, कोरोना को लेकर उन्होंने कहा थी कि वो मिट्टी और गोबर में पैदा हुईं हैं। इसलिए कोरोना उनके आस पास नहीं भटक सकता। वहीं उपचुनाव में बीजेपी की जीत को लेकर उन्होंने डबरा विधानसभा क्षेत्र में ग्रामीणों से कहा था कि सत्ता सरकार जिस सीट को कहेगी कलेक्टर वो सीट हमें जीत कर दे देंगे। वहीं इमरती देवी का अंडा प्रेम भी जग जाहिर है।

Click: MP Anganbadi: इमरती देवी के अंडा प्रेम में उलझे सिंधिया और सरकार

बीजेपी हो या कांग्रेस सरकार वे बच्चों को पोषक आहार के रूप में अंडा देने की पक्षधर रही हैं, ये बात और है कि मुख्यमंत्री शिवराज ने उनके खिलाफ जाकर बच्चों को अंडे की जगह दूध बांटने का फरमान जारी कर दिया है। जिसके बाद महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी को बैकफुट पर आना पड़ा था। वहीं कांग्रेस से बीजेपी में शामिल होने को लेकर मार्च 2020 में बैंगलूरु में इमरती देवी ने कहा था कि श्रीमंत ज्योतिरादित्य सिंधिया कहेंगे तो मंत्री पद तो क्या हम कुएं में कूदने को तैयार हैं।