बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की पोल खोलती तस्वीर, गुना के शासकीय स्कूल में टॉयलेट साफ कर रही बेटियां

गुना जिला के बमोरी तहसील अंतर्गत चकदेवपुर गांव के प्राथमिक-माध्यमिक स्कूल में कक्षा 5 एवं 6 की बेटियों से शौचालय साफ करवाने की तस्वीर वायरल, जिम्मेदारों ने झाड़ा पल्ला

Updated: Sep 22, 2022, 12:29 PM IST

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की पोल खोलती तस्वीर, गुना के शासकीय स्कूल में टॉयलेट साफ कर रही बेटियां

गुना। मध्य प्रदेश के गुना जिले से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की पोल खोलती तस्वीर सामने आई है। जिले के बमोरी तहसील अंतर्गत चकदेवपुर गांव के प्राथमिक-माध्यमिक स्कूलों में बेटियां टॉयलेट साफ करने को मजबूर हैं। जिन हाथों में किताबें होनी चाहिए उनमें झाड़ू थमा दी गई। इससे भी शर्मनाक बता ये है कि मामला सामने आने के बाद जिम्मेदार अब पल्ला झाड़ते नजर आ रहे हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक चकदेवपुर गांव के प्राथमिक-माध्यमिक स्कूल में टॉयलेट साफ करने के लिए कोई सफाईकर्मी नहीं है। ऐसे में स्कूल प्रशासन द्वारा छात्राओं से ही यह काम करवाया जाता है। छात्राएं झाड़ू लेकर टॉयलेट साफ करती हैं और उसे धोने के लिए बाहर लगे हैंडपंप से बाल्टी में पानी भर कर लाती हैं। यह सिलसिला काफी समय से चल रहा है।

यह भी पढ़ें: इंदौर-उज्जैन में PFI के ठिकानों पर NIA की रेड, स्टेट चीफ समेत चार गिरफ्तार, देशभर में 100 से ज्यादा सदस्य गिरफ्तार

स्कूल की प्रिंसिपल इंदिरा रघुवंशी ने इस मामले पर मीडिया से बात करने से इनकार कर दिया है। वहीं बीआरसीसी सतीश शर्मा, जो कई स्कूलों के प्रभारी हैं, ने अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए कहा कि सफाईकर्मी की व्यवस्था पंचायत की होती है। मामले पर ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर श्याम कुमार वशिष्ठ ने कहा कि हम बीआरसीसी को नोटिस भेजकर जवाब तलब करेंगे।