मध्यप्रदेश के 12 शहरों में बढाई गई लॉकडाउन की अवधि, जबलपुर में 22 अप्रैल तक जबकि 19 अप्रैल तक उज्जैन इंदौर में होगा लॉकडाउन

बड़वानी, राजगढ़, विदिशा, जबलपुर, बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी, इंदौर, उज्जैन, राऊ महू, शाजापुर में भी 19 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक टोटल लॉकडाउन जारी रहेगा, 22 की सुबह खत्म होगा जबलपुर का लॉकडाउन, कोरोना की भयावह स्थिति पर काबू पाने की कोशिश

Updated: Apr 11, 2021, 12:09 AM IST

मध्यप्रदेश के 12 शहरों में बढाई गई लॉकडाउन की अवधि, जबलपुर में 22 अप्रैल तक जबकि 19 अप्रैल तक उज्जैन इंदौर में होगा लॉकडाउन
Photo courtesy: twitter

भोपाल। राज्य के शहरी क्षेत्रों में लॉकडाउन जारी है। जिसके बाद प्रदेश सरकार ने 12 शहरों में लॉकडाउन बढ़ाने का  फैसला लिया है। कोरोना महामारी के बढ़ती रफ्तार औऱ मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी वाले 12 शहरों में लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है। 12 अप्रैल से 22 अप्रैल तक जबलपुर में पूर्ण बंदी होगी। वहीं इंदौर, उज्जैन को 19 अप्रैल तक टोटल लॉकडाउन किया गया है।

शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक ली। मुख्यमंत्री ने सभी जिलों की समीक्षा की। जिसके बाद 12 शहरों में लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। प्रदेश के बड़वानी, राजगढ़, विदिशा ज़िलों के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में 19 अप्रेल सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन रहेगा। जबकि जबलपुर शहर के साथ बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी ज़िलों के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में 12 अप्रैल की रात से 22 अप्रैल की सुबह तक पूर्ण बंदी रहेगी। वहीं इंदौर शहर, राऊ नगर, महू नगर, शाजापुर शहर और उज्जैन शहर (एवं उज्जैन ज़िले के सभी नगरों) में 19 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक टोटल लॉकडाउन जारी रहेगा।

और पढ़ें: जान जोखिम में डालकर रेमडेसिविर इंजेक्शन खरीदने उमड़ी भीड़, सुबह 4 बजे लाइन में लगे फिर भी नहीं मिली दवा, पुलिस ने खदेड़ा

दरअसल मुख्यमंत्री ने सभी ज़िला आपदा प्रबंध समितियों से बातचीत कर स्थिति की समीक्षा की है। वहीं आपदा प्रबंध समितियों से चर्चा के बाद फैसला लिया गया है। अब हर जिलों के कलेक्टर/दंडाधिकारी ज़िला आपदा प्रबंधन समितियों की सहमति अनुसार आदेश जारी किया जाएगा। लॉकडाउन के दौरान जरूरी सामान की आपूर्ति जारी रहेगी। दूध, फल, सब्जी, दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी।

और पढ़ें: इंदौर और उज्जैन में 19 अप्रैल तक लॉकडाउन, बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर लिया फैसला

इंदौर में शुक्रवार को 912 और भोपाल में 736 मरीज, जबलपुर में 369 मरीज मिले हैं। प्रदेश में कोरोना एक्टिव मरीज 32 हजार से ज्यादा हैं। 47 जिलों में 100 से ज्यादा मरीज इलाजरत हैं। आंशका है कि अगर संक्रमितों के बढ़ने की यही स्पीड रही तो इस महीने के आखिर तक संक्रमितों की संख्या 90 हजार पहुंच सकती है।

और पढ़ें: कोरोना भगाने की नई तरकीब, एयरपोर्ट पर भजन कीर्तन करने लगीं पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर

इसी सक्रमण की रफ्तार पर लगाम लगाने के लिए सरकार और प्रशासन प्रय़ासरत है, इनदिनों प्रदेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन की पहले से ही कमी है, आक्सीजन सिलेंडर भी नहीं मिल रहे हैं। ऐसे में लोगों को घर में रहने की सलाह दी जा रही है, जिससे लोगों में किसी तरह का संक्रमण ना फैले।