Kamal Nath: राम मंदिर के लिए कांग्रेस भेजेगी चाँदी की 11 शिलाएं

Ram Temple: अयोध्या में श्री राम मंदिर भूमि पूजन के पहले मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने किया हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ

Updated: Aug 04, 2020 08:47 PM IST

Kamal Nath: राम मंदिर के लिए कांग्रेस भेजेगी चाँदी की 11 शिलाएं

भोपाल। अयोध्या में  5 अगस्त को राम मंदिर भूमि पूजन होना है और इसके पूर्व वहाँ पूजा पाठ शुरू हो चुका है। भूमि पूजन के पहले मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने जनता और कार्यकर्ताओं से मंगलवार को अपने घरों में 'हनुमान चालीसा' का पाठ करने का आह्वान किया है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ ने निवास पर पूजा के साथ 'हनुमान चालीसा' और सुंदरकांड का पाठ आरम्भ किया। इसमें वरिष्ठ नेता शामिल हो रहे हैं। 

पाठ के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मीडिया से चर्चा में कहा कि हमने प्रदेश की ख़ुशहाली, उन्नति, समृद्धि को लेकर आज हनुमान जी का पूजन व पाठ किया। हम राम मंदिर निर्माण का स्वागत करते है। राजीव गांधी ने 1985 में इसकी शुरुआत की। 1989 में शिलान्यास किया। राजीव जी के कारण ही राम मंदिर का सपना आज साकार हो रहा है।आज राजीव जी होते तो यह सब देखते। हम राम मंदिर निर्माण के लिये प्रदेश की जनता की और से 11 चाँदी की शीला भेज रहे है।

हम धर्म का उपयोग राजनीति के लिये नहीं करते : नाथ 

नाथ ने कहा कि हम जब भी कुछ करते है, भाजपा के पेट में दर्द पता नहीं क्यों चालू हो जाता है। क्या धर्म पर उनका पेटेंट है? उनका ठेका है? उन्होंने धर्म की एजेंसी ली हुई है क्या? मैंने छिन्दवाड़ा में हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की। हमने अपनी सरकार में गौशालाएँ बनवाईं, रामवनगमन पथ के निर्माण की बाधाएँ दूर की, महाकाल व ओंकारेश्वर मंदिर के विकास की योजना बनायी। बस हम धर्म का उपयोग राजनीति के लिये नहीं करते हैं। हम इसे इवेंट नहीं बनाते है। हम सभी की सोच धार्मिक है लेकिन हम धर्म और राजनीति का गठजोड़ नहीं करते है आज का हमारा आयोजन भावना की लाइन है।

इस आयोजन के पहले प्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट किया है कि कमलनाथ ने मुख्यमंत्री के अपने छोटे से कार्यकाल में धार्मिक आस्था के लिए जो कदम उठाये वो अतुलनीय हैं। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने सनातन धर्म की संस्कृति एवं परंपरा के संरक्षण के लिए देश में पहली बार अध्यात्म विभाग का गठन किया। उन्होंने मुख्यमंत्री रहते हुए राम वन गमन पथ निर्माण की शुरूआत की है। मुख्यमंत्री रहते हुए पुजारी मानदेय में वृद्धि कर अपनी धार्मिक आस्था और धर्म कार्यों में लगे हुए हमारे साथियों के प्रति सम्मान प्रदर्शित किया था। उन्होंने  महाकालेश्वर और ओम्कारेश्वर को जोड़ने की परियोजना ओम् सर्किट की स्वीकृति भी प्रदान की। मुख्यमंत्री रहते कमल नाथ ने प्रदेश में कई धार्मिक आयोजन किये एवं धार्मिक आस्था के केंद्रों के विकास व विस्तार से लेकर तो नये धार्मिक स्थल विकसित करने की कई परियोजनाओं को स्वीकृति दी।

ग़ौरतलब है कि कमलनाथ ने छिंदवाड़ा जिले में भगवान हनुमान की 101 फीट ऊंची प्रतिमा स्थापित करवाई है। वे सभी महत्वपूर्ण अवसरों पर इस मंदिर में हनुमान जी के दर्शन कर व पूजा अर्चना करने जाते हैं। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले और बाद में भी कमल नाथ छिंदवाड़ा में सिमरिया स्थित हनुमान मंदिर पहुंचे थे।