मध्यप्रदेश में कोरोना का कोहराम, स्वास्थ्य मंत्री खाली कुर्सियों के सामने दे रहे भाषण

सोशल मीडिया पर चलाई जा रही थी मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी की गुमशुदगी की खबर, मिले भी तो दमोह में चुनाव प्रचार के दौरान कुर्सियों को संबोधित करते

Updated: Apr 12, 2021, 10:16 AM IST

मध्यप्रदेश में कोरोना का कोहराम, स्वास्थ्य मंत्री खाली कुर्सियों के सामने दे रहे भाषण
Photo Courtesy: Twitter

दमोह। मध्यप्रदेश में कोरोना ने कोहराम मचा रखा है। राज्यभर में संक्रमण और मौत के आंकड़े डरावने होते जा रहे हैं। भयावह होते कोरोना महामारी को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने अबतक सामने आकर अपनी बात तक नहीं रखी है। इसी बीच सोशल मीडिया पर स्वास्थ्य मंत्री के गुमशुदगी की अफवाह भी तेजी से फैल रही है। हालांकि, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ढूंढ लिए गए हैं। चौधरी को कल दमोह में कुर्सियों को संबोधित करते देखा गया है।

जी हां, स्वास्थ्य मंत्री संकट से जूझ रहे प्रदेश के लोगों की स्वास्थ्य का चिंता छोड़ दमोह उपचुनाव के लिए प्रचार प्रसार करने पहुंचे। यहीं उन्हें खाली कुर्सियों को संबोधित करना पड़ा जिसका फ़ोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।  तस्वीरों में देखा जा सकता है कि खुद स्वास्थ्य मंत्री ने भी इस दौरान मास्क नहीं लगाया है। 

मामले पर मध्यप्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता केके मिश्रा ने ट्वीट किया, 'कोरोना के कहर से मप्र में कोहराम,मौत का तांडव जारी गुमशुदा स्वास्थ्य मंत्री डॉ०प्रभुराम चौधरी दमोह में मिले, वह भी भाजपा की उस सभा को (बिना मास्क) संबोधित करते हुए जहां श्रोता ही गायब!एक बिकाऊ दूसरे को जिताने की कर रहे हैं अपील, जनता जाए भाड़ में?' 

कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने स्वास्थ्य मंत्री के दमोह दौरे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इतनी संवेदनहीन सरकार पहले कभी नहीं देखी। चौधरी ने ट्वीट किया, 'ये मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री हैं जो प्रदेशवासियों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर दमोह में चुनावी पर्चे बांट रहे हैं। शर्मनाक। आज एक साल बाद भी अस्पतालों में बेड नहीं, ऑक्सीजन नहीं, समुचित आईसीयू नहीं, गंभीर मरीजों के लिए रेमडेसीवर जैसी इंजेक्शन नहीं।' 

कांग्रेस नेता ने आगे लिखा, 'प्रदेश जहां बीते वर्ष खड़ा था आज फिर एक साल बाद वहीं खड़ा है। यह बेहद निकम्मी, निर्लज्ज और बेशर्म सरकार है। अपने लोग मर रहे हैं और सरकार के मंत्री चुनाव प्रचार में लगे हैं। इतनी बेगैरत और संवेदनहीन सरकार पहले नहीं देखी।' 

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के भयावह होते स्वरूप के बीच स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी लगातार मीडिया से दूरी बनाए हुए हैं। उन्होंने इन दिनों जनता को संबोधित करते हुए एक संदेश तक नहीं दिया है। इसीलिए लोग उन्हें गुमशुदा बता रहे थे। हद्द तो तब हो गई जब दो दिन पहले कोरोना को लेकर राज्य सरकार की आपात बैठक हुई थी। इस बैठक के दौरान सीएम शिवराज के साथ तमाम विभागों के मंत्री मौजूद थे लेकिन स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी यहां भी नदारद थे।