चंद रुपयों के लालच में कलयुगी पति ने पत्नी को बेचा, खरीदारों के साथ जाने से मना करने पर कुएं में फेंका

मध्यप्रदेश के गुना में एक युवक ने 50 हजार रुपयों की खातिर जन्म-जन्मांतर के रिश्ते को किया कलंकित, खरीदारों के साथ न जाने पर सास-ससुर ने कुएं में ढकेला

Updated: Jul 12, 2021, 03:53 PM IST

चंद रुपयों के लालच में कलयुगी पति ने पत्नी को बेचा, खरीदारों के साथ जाने से मना करने पर कुएं में फेंका
Photo Courtesy : News18

गुना। हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पति और पत्नी का रिश्ता पवित्र होने के साथ जन्म-जन्मांतर का भी होता है। विवाह के दौरान पूरे सात वचन देकर पति अपनी पत्नी की रक्षा करने और सात जन्मों तक साथ निभाने का संकल्प लेता है। लेकिन कलयुग में कुछ पति ऐसे भी होते हैं जो चंद रुपयों की खातिर अपनी पत्नी का ही व्यापार करने से बाज नहीं आते। मध्यप्रदेश के गुना में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जहां एक पति ने अपनी पत्नी को 50 हजार रुपए में बेच दिया।

मामला गुना जिले के मृगवास थाना एरिया अंतर्गत सगोरिया गांव का है। जानकारी के मुताबिक चांचौड़ा थाना एरिया अंतर्गत कुलम्बे गांव की एक लड़की के घरवालों ने बचपन में ही सगोरिया निवासी गोपाल गुर्जर से उसकी शादी करा दी थी। वह लड़की पांच साल पहले जब बालिग हो गई तब उसे ससुराल भेजा गया। ससुराल में पिछले पांच साल से सब कुछ ठीक चल रहा था। लेकिन अचानक कथित रूप से कर्ज में डूबा उसका पति उसे 50 हजार रुपए में बेच देता है।

यह भी पढ़ें: यूपी में आकाशीय बिजली गिरने से 41 लोगों की मौत, राजस्थान में 20 और मध्यप्रदेश में 7 लोगों ने गंवाई जान

महिला को इस बात की जनकारी तब लगी जब बीते हफ्ते मंगलवार को खरीदार उसे लेने आए जिनसे उसका पति 50 हजार रुपए एडवांस ले चुका था। महिला ने पुलिस को बताया कि मंगलवार को तीन अज्ञात लोग उसके घर आए, जिन्हें उसने पहले कभी नहीं देखा था। उसका पति उसे रात में ही उन अज्ञात लोगों के साथ जाने को कहता है और मना करने पर जाकर सो जाता है।

बुधवार सुबह जब महिला उठी तो उसे खेत पर जाने के लिए कहा गया। महिला जब वहां गई तो वही तीनों लोग मिले जो पहले से उसका इंतजार कर रहे थे। इतने में उसका पति और सास-ससुर भी खेत पर आ गए। यहां काफी जोर-जबरदस्ती के बाद भी जब महिला जाने के लिए राजी नहीं हुई तब सास-ससुर ने उठाकर उसे पास के कुएं में फेंक दिया।

यह भी पढ़ें: हरिजन एक्ट में फंसाने की धमकी देते हैं दबंग, परिवार ने इस्लाम धर्म कबूलने के लिए डीएम से मांगी परमिशन

महिला के साथ अत्याचार होता देख गांव के चौकीदार और उसकी पत्नी आई और उन्होंने कुएं से किसी तरह पीड़िता को बाहर निकाला। इसके बाद घरवालों ने उसे घर में बंद कर दिया। मामले का भंडाफोड़ तब हुआ जब गांव के किसी व्यक्ति ने लड़की के घरवालों को ये बात बताई। चार दिन बाद जब लड़की का पिता पुलिस लेकर गांव पहुंचा तो उसकी जान बची। इस दौरान पुलिस के पहुंचते ही आरोपी वहां से फरार हो गए। मामले में पुलिस ने आरोपी पति गोपाल गुर्जर, ससुर रामदयाल गुर्जर और सास रामेती बाई गुर्जर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।