डेटिंग एप से हनीट्रैप का भंडाफोड़, MP पुलिस ने चार आरोपियों को किया गिरफ्तार, 2 महीनों में 50 करोड़ का ट्रांजैक्शन

मध्यप्रदेश की साइबर पुलिस ने 50 करोड़ की ऑनलाइन ठगी का भंडाफोड़ किया है, डेटिंग एप के जरिए लगाया जा रहा था युवा व्यवसायियों को चुना

Updated: Jul 07, 2021, 06:03 PM IST

डेटिंग एप से हनीट्रैप का भंडाफोड़, MP पुलिस ने चार आरोपियों को किया गिरफ्तार, 2 महीनों में 50 करोड़ का ट्रांजैक्शन
Photo Courtesy: Tribune

भोपाल। मध्यप्रदेश की साइबर पुलिस ने 50 करोड़ की ऑनलाइन ठगी का भंडाफोड़ किया है। इसमें पाकिस्तान और चीन के कनेक्शन भी सामने आए हैं। यह इंटरनेशनल रैकेट बेहद शातिराना तरीके से युवाओं को अपने जाल में फंसाकर उन्हें चूना लगा रहा था। इसके लिए युवा व्यवसायियों को सबसे पहले डेटिंग एप के माध्यम से हनीट्रैप का शिकार बनाया जाता था। साइबर पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक बीते 16 मई को भोपाल के एक युवा कारोबारी ने शिकायत दर्ज कराई थी। उसने बताया था कि डेटिंग एप के माध्यम से एक महिला से उसकी मुलाकात हुई थी। महिला ने मसालों की ट्रेडिंग के उससे पांच फर्म के बैंक खातों में करीब एक करोड़ रुपए जमा करवाया और इस तरह व्यापारी को चूना लगाया गया। पुलिस ने इस मामले की जब छानबीन की तो कई खुलासे हुए।

यह भी पढ़ें: तीन वर्षीय मासूम बच्चे ने की मां के शव की पहचान, पुलिस को बताया, ये मेरी मम्मी है, इन्हें पापा ने मारा

यह इंटरनेशनल रैकेट डेटिंग ऐप के जरिए सबसे पहले बड़े और युवा कारोबारियों को लड़कियों के जरिए हनी ट्रैप में फंसाता था। इसके बाद फर्जी वेब पेज के जरिए ऑनलाइन ट्रांजैक्शन बताकर करोड़ों रुपये की ठगी करते थे। इन पैसों को क्रिप्टो करेंसी में कन्वर्ट कर पाकिस्तान भेजा जाता था।पुलिस ने इस मामले में पांच संदिग्ध बैंक खातों और क्रिप्टो ट्रेडर्स के खातों को ब्लॉक कराया है साथ ही इन खातों में 50 लाख से ज्यादा की रकम को फ्रिज कराया है।

चौंकाने वाली बात यह है कि सिर्फ अप्रैल और मई महीनों की पड़ताल में 50 करोड़ के ट्राजैक्शन का खुलासा हुआ है। इस रैकेट में पाकिस्तानी, चीनी नागरिक के साथ इंडिया के रजिस्टर्ड चार्टर्ड अकाउंटेंट, कंपनी सेक्रेटरी और व्यवसायी शामिल हैं। पुलिस ने दिल्ली, गुरुग्राम और राजकोट से चार आरोपीयों को गिरप्तार किया है जबकि दो अन्य फरार हैं। फिलहाल पुलिस अब इस बात की जांच कर रही है कि इतनी बड़ी रकम कहां और किस इस्तेमाल के लिए भेजा जा रहा था और इस गिरोह के तार कहां-कहां से जुड़े हैं, साथ ही आरोपियों ने और कितने लोगों को चूना लगाया है।