शिवराज के गृह ज़िले में किसानों को जगाने पहुँची कांग्रेस, ट्रैक्टर पर दिग्विजय सिंह, अरुण यादव ने संभाली स्टेयरिंग

कृषि कानूनों के विरोध में नसरुल्लागंज कांग्रेस का ट्रैक्टर मार्च, सीहोर जिला प्रशासन ने सील की नसरूल्लागंज पहुंचने वाले सभी रोड

Updated: Jan 06, 2021, 11:51 PM IST

शिवराज के गृह ज़िले में किसानों को जगाने पहुँची कांग्रेस, ट्रैक्टर पर दिग्विजय सिंह, अरुण यादव ने संभाली स्टेयरिंग

नसरुल्लागंज। केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ मध्यप्रदेश कांग्रेस की नसरुल्लागंज इकाई ने आज ट्रैक्टर मार्च का आयोजन किया। इस ट्रैक्टर मार्च की स्टोरिंग पूर्व प्रदेश कांग्रेस अंध्यक्ष अरुण यादव के हाथ में रही, जबकि सहयात्री बने दिग्विजय सिंह, सज्जन वर्मा, राजकुमार पटेल व जीतू पटवारी। इनके साथ-साथ किसान कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुर्जर, कार्यकारी अध्यक्ष केदार सिरोही, यूथ कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत भूरिया व विधायक कुणाल चौधरी सहित हज़ारों की संख्या में किसानों व कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विधानसभा क्षेत्र नसरुल्लागंज में ट्रैक्टर मार्च निकाला। ट्रैक्टर मार्च के दौरान इलाके के हजारों किसानों ने जय जवान, जय किसान के उद्घोष के साथ केंद्रीय कृषि कानूनों को तत्काल वापस लेने की मांग की। इलाके की पुलिस ने इस ट्रैक्टर रैली को 30 किलोमीटर पहले ही रोक दिया।

युवा नेताओं ने केंद्र को ललकारा

ट्रैक्टर मार्च के दौरान एक ओर जहां वरिष्ठ नेताओं ने मोर्चा संभाल रखा था, वहीं पीछे से कांग्रेस के युवा नेताओं की फौज भी पीएम मोदी को ललकार रहे थे। ट्रैक्टर मार्च में कांग्रेस के युवा विधायक जीतु पटवारी, कुणाल चौधरी, यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष विक्रांत भूरिया सहित कई अन्य नेता मौजूद थे। इस दौरान सभी एक स्वर में 'किसान विरोधी- नरेंद्र मोदी' की आवाज को बुलंद कर रहे थे।

 

 

 

जीतु पटवारी ने इस दौरान मीडिया से कहा, 'इन्होंने एक किसान से नहीं पूछा, एक किसान संगठन से नहीं पूछा, किसी राजनीतिक दल से नहीं पूछा, न संसद में बहस हुई। नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं, एक-एक जनता के वह प्रतिनिधि हैं लेकिन ऐसा क्या हुआ जो कि आधी रात को कोरोना काल में काले कानूनों को पास करना पड़ा। दो महीने से किसान बैठे हैं, 60 किसानों ने जान का बलिदान दे दिया लेकिन पीएम मोदी की हठधर्मिता, अहंकार के कारण इसे वापस नहीं लिया जा रहा।

 

 

इससे पहले, सीहोर जिला प्रशासन ने नसरुल्लागंज पहुंचने वाले सभी सड़कों को सील कर दिया था। बैरिकेडिंग कर तहसील कार्यलय को भी घेर दिया गया था ताकि कांग्रेस कार्यकर्ता तहसील में धरना न दें। यही नहीं, सीहोर गोपालपुर पुलिस ने धरना देने जा रहे कांग्रेस नेता अर्जुन आर्य के साथ सैंकड़ों किसानों को भी धरना स्थल पहुंचने से पहले रोक लिया।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश कांग्रेस ने किसानों के समर्थन में राज्यभर में तहसील घेरो आंदोलन चलाया है जिसके तहत जगह-जगह पर कांग्रेस विधायकों व कार्यकर्ताओं द्वारा मार्च व धरना प्रदर्शन आयोजित किए जा रहे हैं।

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे देशभर के किसानों के समर्थन में आयोजित इस ट्रैक्टर मार्च में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत अनेक स्थानी कांग्रेस विधायक भी शामिल रहे।