हड़ताल पर जाने को मजबूर हुए जूनियर डॉक्टर्स, कल से रुटीन और आपात सेवाएं बंद करने का नोटिस

मध्यप्रदेश जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन ने मेडिकल शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग को लिखा पत्र, मांगें पूरी न हुई तो कोविड छोड़ सभी सेवाएं रोकने के लिए बाध्य होंगे

Updated: Apr 12, 2021, 07:39 PM IST

हड़ताल पर जाने को मजबूर हुए जूनियर डॉक्टर्स, कल से रुटीन और आपात सेवाएं बंद करने का नोटिस
Photo Courtesy : HT

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना की नई लहर ने भयानक कहर बरपाया है। प्रदेशभर में प्रतिदिन लोगों की मौत हो रही है। राज्य की स्थिति इतनी खराब है कि अब शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए शमशान और कब्रिस्तान में जगह कम पड़ गई है। इस संकट की घड़ी में अपनी जान पर खेलकर लोगों को बचाने वाले प्रदेश के कोरोना वारियर्स यानी जूनियर डॉक्टर्स को हड़ताल पर जाने को मजबूर होना पड़ रहा है। प्रदेश भर के सभी जूनियर्स डॉक्टर कल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे।

मध्यप्रदेश जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन ने मेडिकल शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग को पत्र लिखकर इस बात की जानकारी दी है कि राज्य के सभी जूनियर डॉक्टर कल से हड़ताल पर जा रहे हैं। पत्र में उन्होंने लिखा है कि, 'जैसा की पूर्व के पत्रों में हमने बताया था कि जूडा की मांगे पूरी नहीं होंगी तो हम आपातकालीन सेवाओं के साथ-साथ अन्य सेवाएं भी रोकने के लिए मजबूर होंगे।'

यह भी पढ़ें: भोपाल बीजेपी मुख्यालय में कोरोना बिस्फोट, 10 दिन के लिए बंद करना पड़ा पार्टी मुख्यालय

पत्र में आगे लिखा गया है कि, 'राज्य सरकार हमारी मांगों पर ध्यान देने में विफल रही है। ऐसे में हम कोविड-19 ड्यूटी को छोड़कर अन्य सभी सेवाओं को अनिश्चितकाल तक के लिए बंद रखेंगे।' जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन ने यह भी कहा है कि इसके बावजूद भी यदि उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाता है तो वे कोरोना से जुड़ी सेवाओं को भी बंद करने के लिए बाध्य होंगे। 

जूडा ने कहा है कि, 'हालांकि, मानवीय आधार पर हम यह कभी नहीं चाहते कि कोरोना से संबंधित सेवाओं को भी हड़ताल के दौरान रोका जाए। हम जानते हैं कि यह संकट का समय है लेकिन हमें खुद के लिए आगे आकर स्टैंड लेना होगा।' गौरतलब है कि, राज्य के जूनियर डॉक्टर्स बीते कई महीनों से वेतन व अन्य मांगों को लेकर सरकार से गुजारिश कर रहे हैं।