MP: मृत प्रहरी के तबादले पर उठे सवाल, ट्रांसफर-पोस्टिंग में भ्रष्टाचार का लगा आरोप

कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने मंत्री नरोत्तम मिश्रा को लिखी चिट्ठी, डीजी जेल पर कार्रवाई की मांग

Updated: Sep 22, 2020 01:09 PM IST

MP: मृत प्रहरी के तबादले पर उठे सवाल, ट्रांसफर-पोस्टिंग में भ्रष्टाचार का लगा आरोप
Photo Courtesy: Indian Express

भोपाल। मध्य प्रदेश के जेल विभाग में एक मृत प्रहरी रशीद खान का तबादला किए जाने के मामले में भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं। भोपाल के कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने ट्रांसफर-पोस्टिंग में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार और धांधली होने के आरोप लगाते हुए शिवराज सरकार के जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा को चिट्ठी लिखी है।

आरिफ मसूद ने अपनी चिट्ठी में मांग की है कि इस मामले में हुए भ्रष्टाचार की जांच करके डीजी जेल संजय चौधरी के खिलाफ कार्रवाई की जाए। दरअसल, सोशल मीडिया पर जेल विभाग का एक ट्रांसफर ऑर्डर वायरल हो रहा है। आरिफ मसूद ने इस ट्रांसफर ऑर्डर को सही बताते हुए आरोप लगाया है कि जेल विभाग ने 9 सितंबर को 10 प्रहरियों का तबादला करके उन्हें नई पदस्थापना भी दे दी थी। तबादले की इस लिस्ट में छठे नंबर पर रशीद खान का नाम है। जबकि सच्चाई यह है कि रशीद खान का तीन महीने पहले ही निधन हो चुका है।

चौधरी पर पहले भी लग चुके हैं आरोप
विधायक आरिफ मसूद डीजी जेल संजय चौधरी पर पहले भी भ्रष्टाचार के आरोप लगा चुके हैं। उस वक्त संजय चौधरी खेल विभाग में डायरेक्टर थे। कमलनाथ सरकार के कार्यकाल में सामने आए उस मामले को कांग्रेस विधायक ने सदन में भी उठाया था। जिस पर संज्ञान लेते हुए पूरे मामले की जांच के लिए एक कमेटी गठित की गई थी। आरिफ मसूद का कहना है कि अपने खिलाफ जांच कमेटी का गठन होने के बावजूद संजय चौधरी अब भी डीजी जेल के तौर पर जेल विभाग में जमकर भ्रष्टाचार कर रहे हैं।