निकाय चुनाव 2022: सांसद केपी यादव पर टिकट बेचने का आरोप, अशोकनगर जिला उपाध्यक्ष ने दिया इस्तीफा

नगर निकाय चुनाव में टिकट वितरण को लेकर बीजेपी में घमासान, सभी संभागों में दिखी कार्यकर्ताओं की नाराजगी, अशोकनगर जिला उपाध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, सांसद केपी यादव पर लगाए गंभीर आरोप

Updated: Jun 21, 2022, 08:19 PM IST

निकाय चुनाव 2022: सांसद केपी यादव पर टिकट बेचने का आरोप, अशोकनगर जिला उपाध्यक्ष ने दिया इस्तीफा

अशोकनगर। मध्य प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव में टिकट बंटवारे को लेकर बीजेपी में घमासान मची हुई है। राजधानी भोपाल से लेकर, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर सभी संभागों के बीजेपी कार्यकर्ताओं में टिकट वितरण को लेकर आक्रोश है। अशोकनगर में कथित रूप से टिकट बेचे जाने से व्यथित होकर बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष ने इस्तीफा दे दिया है।

अशोकनगर बीजेपी जिलाध्यक्ष नीरज सोनी ने जिलाध्यक्ष उमेश रघुवंशी को संबोधित इस्तीफा पत्र में लिखा है कि, 'नगरीय निकाय चुनाव 2022 में टिकट वितरण में हुए खरीद फरोख्त को लेकर मन आहत है। मैं 25 वर्ष पुराना कार्यकर्ता भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष एवं प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा देता हूं।' 

हम समवेत से बातचीत के दौरान नीरज सोनी ने कहा कि, 'अशोकनगर में दर्जनभर पार्षदों के टिकट पैसे लेकर बेचे गए हैं। सांसद केपी यादव और जिलाध्यक्ष उमेश रघुवंशी की सांठ-गांठ से यहां टिकट की बिक्री हुई है। वार्ड क्रमांक 13 में एक पेशेवर अपराधी को टिकट दिया गया है। उसने खुलेआम कहा था कि मैं टिकट खरीद लूंगा। टिकट बंटवारे में उन कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की गई जो दशकों से संगठन की सेवा कर रहे हैं। लेकिन बाहरी लोगों को पैसे लेकर टिकट बेच दिया गया। जिले में बीजेपी की स्थिति बेहद दयनीय हो गई है। कल तक दर्जनों कार्यकर्ता इस्तीफा देंगे।'

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में भी सरकार को अस्थिर करने की साजिश, फोन टैपिंग कर रही मोदी सरकार: भूपेश बघेल

बता दें कि दो दिन पूर्व ही बीजेपी महिला मोर्चा की पूर्व जिलाध्यक्ष रचना नायक, सुषमा शर्मा, रानी सेन और नीतू यादव ने बीजेपी कार्यालय ने हंगामा किया था। महिला नेत्रियों यहां जिलाध्यक्ष उमेश रघुवंशी के साथ बेहद तल्खी से पेश आईं। उन्होंने कार्यालय के बाहर करीब एक घंटे तक हंगामा किया। ये चारों पदाधिकारी टिकट की दावेदारी कर रही थीं, लेकिन नहीं मिलने से नाराज होकर उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन जमा किए। 

महिला नेत्रियों ने भी जिलाध्यक्ष पर ही टिकट की खरीद-फरोख्त के आरोप लगाए। रचना नायक ने तो यहां तक दावा किया कि टिकिट के लिए मुझसे जो डिमांड की गई थी वह मैने पूरी की थी। बावजूद उन्हें टिकट नहीं दी गई। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि वह डिमांड वापस नहीं लौटाई गई तो मीडिया के सामने खुलासा करूंगी। साथ ही कहा कि हम पर पार्टी छोड़ने के लिए दबाव बनाया जा रहा है, लेकिन हम पार्टी नहीं छोडेंगे।