अपराधी को पकड़ने की पुलिस ने अपनाई नई तरकीब, हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने बाबा की शरण में पहुंचे ASI

छतरपुर पुलिस एक युवती की हत्या की गुत्थी नहीं सुलझा सकी तो संत पंडोखर सरकार के दरबार पहुंची, बाबा के इशारे पर बिना जांच मृतका के चाचा को ही गिरफ्तार कर लिया गया

Updated: Aug 18, 2022, 05:25 PM IST

अपराधी को पकड़ने की पुलिस ने अपनाई नई तरकीब, हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने बाबा की शरण में पहुंचे ASI

छतरपुर। मध्य प्रदेश पुलिस अनोखे कारनामों को अंजाम देने में हमेशा आगे रहती है। पुलिस ने अपराधियों को पकड़ने के लिए नई तरकीब अपना ली है। छतरपुर पुलिस का एक ऐसा ही कारनामा सामने आया है। यहां हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने के लिए पुलिस स्वघोषित अंतर्यामी बाबा के पास पहुंची। इतना ही नहीं बाबा के इशारों पर मृतक के रिश्तेदार को ही गिरफ्तार भी कर लिया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक बमीठा थाना क्षेत्र के ओटा पुरवा गांव में बीते 28 जुलाई को एक युवती का शव कुएं में संदिग्ध परिस्थितियों में बरामद हुआ। मृतका के परिजनों ने गांव के तीन लड़कों पर हत्या का आरोप लगाया। पुलिस ने शिकायत के आधार पर तीनों युवकों को हिरासत मे लेकर पूछताछ की। लेकिन पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा। हत्या की गुत्थी उलझती ही जा रही थी। ऐसे में पुलिस ने संत पंडोखर सरकार की शरण जाने का निर्णय लिया।

बमीठा थाने के एएसआई अनिल शर्मा कथित संत पंडोखर सरकार के दरबार में अर्जी लगाने पहुंचे। इस दौरान संत ने पुलिस को हत्या के खुलासे के लिए कुछ क्लू दिए। इन्हीं क्लू के आधार पर पुलिस ने तीनों लड़कों को छोड़, मृतका के चाचा तीरथ अहिरवार पर भतीजी की हत्या का आरोप लगाकर गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, परिजनों ने इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया। परिजनों ने जब पड़ताल की तो उन्हें पता चला कि पुलिस ने पंडोखर महाराज की बात में आकर ये गिरफ्तारी की है।

पुलिस ने अपने खुलासे में दावा किया था कि आरोपी चाचा को भतीजी के चरित्र पर शक था, इसलिए उसने गला घोंटकर हत्या कर शव कुएं में फेंक दिया। हालांकि, अब मामला सामने आने के बाद छतरपुर एसपी ने थाना इंचार्ज पंकज शर्मा को लाइन अटैच कर दिया और एएसआई अनिल शर्मा को निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही एसपी ने मामले की जांच के आदेश खजुराहो एसडीओपी को दिए हैं।

यह भी पढ़ें: करोड़ों की प्रॉपर्टी, लग्जरी गाड़ियां, महल जैसा घर, EOW के छापे में धनकुबेर निकला जबलपुर RTO

कांग्रेस ने इस घटना को लेकर तंज कसते हुए कहा है कि पुलिस गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से प्रेरणा ले रही है। बता दें कि हाल ही में मध्य प्रदेश की बुरहानपुर जिले की पुलिस एक शातिर चोर को पकड़ने के लिए उत्तर प्रदेश गई। यहां चोर उनके हत्थे भी चढ़ गया। लेकिन बजाय उसे थाने लाने के, पुलिसकर्मी सीधे चोर को गंगा स्नान कराने गए। तर्क दिया कि दिन शुभ था, सोचा सब के पाप कट जाएंगे।