MP By Elections: ज्योतिरादित्य सिंधिया के चॉकलेटी चेहरे का अपमान क्यों, बीजेपी के संकल्प पत्र पर कांग्रेस का तंज़

Jyotiraditya Scindia: उपचुनाव के लिए जारी बीजेपी के मिनी संकल्प पत्र में ज्योतिरादित्य सिंधिया को पहले नहीं, आखिरी पन्ने पर कैलाश विजयवर्गीय के बाद मिली जगह, कांग्रेस ने सिंधिया की उपेक्षा पर फिर किया तंज़

Updated: Oct 28, 2020, 03:56 PM IST

MP By Elections: ज्योतिरादित्य सिंधिया के चॉकलेटी चेहरे का अपमान क्यों, बीजेपी के संकल्प पत्र पर कांग्रेस का तंज़
Photo Courtesy: Zee News

भोपाल। ज्योतिरादित्य सिंधिया के चॉकलेटी चेहरे का इतना अपमान क्यों हो रहा है? कांग्रेस ने यह तंज़ भरा सवाल बीजेपी के मिनी संकल्प पत्र को देखने के बाद किया है। दरअसल बीजेपी ने  मध्य प्रदेश उपचुनाव में प्रचार थमने से चार दिन पहले मिनी संकल्प पत्र जारी किया है। हैरान करने वाली बात यह है कि इस संकल्प पत्र के पहले पन्ने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया का चेहरा कहीं नहीं है। उनकी तस्वीर संकल्प पत्र के आखिरी पन्ने पर है, वो भी कैलाश विजयवर्गीय के बाद। इसे ही कांग्रेस सिंधिया के चेहरे का अपमान बता रही है।

बीजेपी ने कांग्रेस की तर्ज पर ही 28 विधानसभा सीटों के लिए 28 अलग अलग-संकल्प पत्र जारी किए हैं, जिनमें स्थानीय मुद्दों को प्राथमिकता दी गई है। संकल्प पत्र के मुख्य पृष्ठ पर स्थानीय प्रत्याशी के अलावा सिर्फ नरेंद्र मोदी, जेपी नड्डा, शिवराज सिंह चौहान और वीडी शर्मा की तस्वीरें हैं।

आखिरी पन्ने के 14 चेहरों में एक सिंधिया की तस्वीर

ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर संकल्प पत्र के आखिरी पन्ने पर है तो ज़रूर, लेकिन 14 नेताओं की लंबी कतार में पांचवें नंबर पर। बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के ठीक बाद उनकी तस्वीर लगाई गयी है। सिंधिया की तस्वीर को नेताओं की भीड़ के बीच इतनी ज़रा सी जगह दिए जाने पर तंज़ करते हुए ही कांग्रेस ने कहा है कि उनके चॉकलेटी चेहरे का इतना अपमान क्यों हो रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट किया है, 'भाजपा संकल्प पत्र के मुख्य पृष्ठ से सिंधिया का फ़ोटो ग़ायब ? अतिरिक्त पेज में स्थान मिला। अब दस नंबरी से नौ नंबरी बने। कैलाश विजयवर्गीय के बाद स्थान मिला। जिसे मुख्य चेहरा बताते थे वो मुख्य पृष्ठ से ग़ायब। चाकलेटी चेहरे का इतना अपमान..? भाजपा आख़िर कितना अपमान करेगी ?'

बता दें कि संकल्प पत्र आने के पहले ही इसमें सिंधिया की उपेक्षा को लेकर सियासत होने लगी थी। हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब बीजेपी ने सिंधिया को पार्टी में उनकी हैसियत का एहसास कराया हो। इसके पहले बीजेपी ने जब प्रचार के लिए अपने रथ रवाना किए तो उनमें भी सिंधिया की तस्वीर नहीं थी। इसके बाद बीजेपी के स्टार प्रचारकों की लिस्ट में सिंधिया को दसवें नंबर पर रखा गया। हद तो तब हो गई जब बीजेपी मुख्यालय पर लगे पोस्टर्स में भी सिंधिया कहीं नज़र नहीं आए। इस बीच सिंधिया कई दिनों तक मध्य प्रदेश में चुनाव प्रचार से दूर भी रहे, जिसे उनकी नाराज़गी का संकेत माना गया। 

क्या है संकल्प पत्र की मुख्य बातें 

बीजेपी के संकल्प पत्र में स्थानीय मुद्दे तो सभी सीटों के लिए अलग-अलग हैं, लेकिन पूरे मध्य प्रदेश के लिए भी पार्टी ने कुछ वादे किए हैं। इन वादों में बीजेपी की सरकार बने रहने पर सभी लोगों को मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने, किसानों को 4 हजार रुपए सम्मान निधि योजना के तहत अतिरिक्त देने की भी बात कही गई है। इनमें मुफ्त कोरोना वैक्सीन का वादा बीजेपी ने बिहार में किया है, जिसे लेकर उसकी काफी खिंचाई हो रही है।