मध्य प्रदेश में ड्रग माफिया के खिलाफ सख्ती का फ़ैसला

सीएम शिवराज चौहान की बुलाई बैठक में तय हुआ कि 15 से 22 दिसंबर तक पूरे प्रदेश में नशा विरोधी विशेष अभियान चलाया जाएगा

Updated: Dec 12, 2020, 12:45 AM IST

मध्य प्रदेश में ड्रग माफिया के खिलाफ सख्ती का फ़ैसला
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

भोपाल। मध्य प्रदेश में बढ़ते नशे के कारोबार पर रोक लगाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज एक आपात बैठक बुलाई। जिसमें अधिकारियों को नशे के कारोबार को जड़ से खत्म करने के लिए विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने इस दौरान नशे का कारोबार करने वालों को मानवता का दुश्मन बताकर अधिकारियों का जोश बढ़ाया। 

15 से 22 दिसंबर तक चलेगा अभियान

बैठक में 15 से 22 दिसंबर तक पूरे प्रदेश में नशा विरोधी विशेष अभियान चलाने का फैसला किया गया। इस बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा समेत आला अधिकारी शामिल हुए।

सीएम शिवराज ने इस दौरान कहा कि जो भी लोग नशे के कारोबार से जुड़े हैं उन पर सख्त कार्रवाई की जाए। दोषियों को किसी भी हाल में नहीं बख्शा जाए। बैठक में सीएम ने कहा कि सफेद पाउडर यानि स्मैक और कोकीन हैंडलर का इंटरनेशनल नेटवर्क बन चुका है, इसे जड़ से खत्म करने के लिए पुलिस को सख्ती से कार्रवाई करनी होगी।

यह भी पढ़ें: बीजेपी विधायक के बेटे का ड्रग्स लेते वीडियो वायरल

नशा करने वाले बच्चों के प्रति सहानुभूति रखें

बैठक में यह बात भी सामने आई कि प्रदेश के जिम, पब, क्लब और कॉलेज कैंटीन्स में ड्रग्स की सप्लाई होती है। ऐसी जगहों पर जाकर सख्त कार्रवाई की जाए। इसी के साथ मुख्यमंत्री ने नशा करने वाले बच्चों के प्रति सहानुभूति रखने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि नशा करने वाले बच्चों की नशे की लत छुड़ाने के प्रयास किए जाने चाहिए। पुलिस उन पर ज्यादती ना करे। नशा करने वालों की नशे की लत छुड़ाने और उनके पुनर्वास के लिए प्रदेश के सामाजिक न्याय विभाग और स्वयंसेवी संगठनों का भी पूरा सहयोग लिया जाए।

 

बैठक में बताया गया कि जिन जिलों में स्मैक का धड़ल्ले से कारोबार हो रहा है, उनमें इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, विदिशा, राजगढ़, नरसिंहपुर, दतिया, मुरैना, भिंड, गुना, शिवपुरी, श्योपुर, रीवा, सिंगरोली, मंदसौर, अशोकनगर, दमोह देवास, उज्जैन और रतलाम शामिल हैं। जबकि राजगढ़, सिहोर, जबलपुर, मंदसौर और रतलाम में अफीम ज्यादा बिकने की बात सामने आई है।