MP: भाजपा नेताओं द्वारा छेड़खानी से तंग आकर युवती ने की थी खुदकुशी, अब पिता ने भी दी जान

छेड़छाड़ से तंग आकर दो महीने पहले सुसाइड करने वाली बीए फर्स्ट इयर की छात्रा के पिता ने भी गुरुवार को फांसी लगाकर जान दे दी।

Updated: Jul 08, 2023, 04:20 PM IST

विदिशा। मध्य प्रदेश के विदिशा में भाजपा नेताओं द्वारा छेड़खानी से तंग आकर दो महीने पहले सुसाइड करने वाली BA की छात्रा के पिता ने भी गुरुवार को फांसी लगाकर जान दे दी। पिता बेटी को न्याय दिलाने के लिए लगातार लड़ रहा था, लेकिन न तो पुलिस सुन रही थी न ही जनप्रतिनिधियों ने उसकी मदद की। क्योंकि, आरोपी भाजपा से जुड़े थे। ऐसे में तंग आकर पिता ने भी अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली।

मामला विदिशा जिले के दुपारिया गांव का है। यहां छात्रा रक्षा गोस्वामी ने 2 महीने पहले भाजपा नेताओं द्वारा छेड़छाड़ से परेशान होकर आत्महत्या कर ली थी। उसने सुसाइड नोट में 6 लोगों के नाम लिखे थे, फिर भी पुलिस ने सिर्फ एक आरोपी सुदीप धाकड़ पर केस किया। वह भी जमानत पर छूट गया। जेल से आने के बाद से आरोपी युवती के पिता को धमका रहा था, इससे डरे पिता धीरेंद्र गिरि ने भी गुरुवार को सुसाइड कर लिया।

इधर, धीरेंद्र के सुसाइड पर भड़के परिजन और ग्रामीण शुक्रवार को इंसाफ के लिए सड़क पर उतर आए। उन्होंने उनका शव स्ट्रेचर पर रखकर विदिशा-सांची रोड पर दो घंटे तक चक्काजाम कर दिया। पीड़ित परिवार का आरोप है कि आरेापी भाजपा से जुड़े हुये हैं, इसी कारण न तो उन पर समय रहते कार्रवाई की गई और न ही उनकी सुनवाई हुई। बेटी के बाद पिता ने सुसाइड कर लिया है। परिजनों का आरोप है कि आरोपी लगातार पिता को केस खत्म करने के लिए धमका रहे थे। जिस कारण पिता ने सुसाइड किया है।

लड़की के पिता ने भी अपने सुसाइड नोट में भाजपा नेताओं के नाम लिखे हैं, जिनमें भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं सहकारी बैंक के पूर्व डायरेक्टर भगवान सिंह धाकड़, बमोरी गांव की सरपंच के पति राजेश धाकड़ और शमशाबाद का भाजपा नेता कल्याण सिंह शामिल है। हंगामा बढ़ने के बाद पुलिस ने 6 आरोपियों पर केस दर्ज किया हैं।

वहीं, मामला तूल पकड़ने के बाद गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बयान देते हुए कहा, 'विदिशा में छेड़खानी से तंग आकर पहले बेटी और पिता की मौत का मामला दुखद है। ये छेड़छाड़ का मामला था तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए थी। दो आरोपी गिरफ्तार किये गए हैं। टीआई, हेड कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है। DIG स्तर के अधिकारी इस मामलें में जांच करेंगे और 3 दिन में मामलें की पूरी रिपोर्ट देंगे, जो भी अपराधी होंगे उनके नाम भी मामलें में जोड़े जायेगे और दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा।'