जेल से रिहा होकर इंदौर पहुंचे गालीबाज संत कालीचरण, कट्टर संगठनों ने नायकों की तरह किया स्वागत

रायपुर जेल से रिहा होकर इंदौर पहुंचे काली जुबान वाले संत कालीचरण, कहा- मुझे अपने बयान पर कोई पछतावा नहीं, VHP व हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने की आगवानी

Updated: Apr 06, 2022, 01:32 PM IST

जेल से रिहा होकर इंदौर पहुंचे गालीबाज संत कालीचरण, कट्टर संगठनों ने नायकों की तरह किया स्वागत

इंदौर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को गाली बकने वाले संत कालीचरण रायपुर की जेल से छूटने के बाद मंगलवार शाम इंदौर पहुंचे। यहां कट्टर संगठनों ने कालीचरण का किसी नायक की तरह जबरदस्त स्वागत किया। 

जानकारी के मुताबिक कालीचरण की आगवानी करने के लिए अकोला, पुणे, देवास सहित अन्य जगहों के हिंदूवादी संगठनों से जुड़े लोगों को इंदौर एयरपोर्ट पर बुलाया गया था। इनमें विश्व हिंदू परिषद, बजरंग सेना व हिंदू महासभा संगठन के कार्यकर्ता शामिल थे। यहां हिंदू महासभा सहित अन्य कट्टर संगठनों ने एयरपोर्ट से राजवाड़ा तक जगह-जगह उनका स्वागत किया। 

राष्ट्रपिता को गाली देने के बावजूद सैंकड़ों की संख्या में प्रशंसकों को देख कालीचरण जोश से लबरेज थे। यहां उन्होंने एक बार फिर शर्मनाक तरीके से कहा कि मैं अपने बयान पर कायम हूं। कालीचरण ने कहा कि, 'आज मैं देवी अहिल्या की पावन नगरी इंदौर में पहुंचा हूं। यहां पर लोगों का उत्साह देखकर बड़ा प्रसन्न हूं। हिंदुओं को लेकर मैं लगातार काम करता रहा हूं और करता रहूंगा। मां अहिल्या की पावन नगरी 2 तीर्थ स्थलों के बीच में है। मुझे यहां आकर बड़ा सुकून और आनंद मिल रहा है।'

यह भी पढ़ें: शिवपुरी में महिलाओं ने शराब दुकान पर किया हंगामा, सड़कों पर फेंकी शराब की पेटियां

कालीचरण ने आगे कहा कि, 'जिस तरह से यहां लोग पहुंचे हैं और मेरा स्वागत किया है, इससे मेरा उत्साह और मनोबल बढ़ रहा है। मुझे अपने बयान पर कोई पछतावा नहीं है। मुझे सच बोलने की सजा मिली है।'  कालीचरण 94 दिन बाद जेल से बाहर आए हैं और छूटते ही सीधा इंदौर पहुंचे।

बता दें कि कालीचरण महाराज ने छत्तसीगढ़ के रायपुर में 26 दिसंबर को धर्म संसद में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को गालियां दी थी। इस दौरान कालीचरण ने कहा था, ‘#$%^@ मोहनदास करमचंद गांधी ने उस वक्त देश का सत्यानाश किया। नाथूराम गोडसे जी को नमस्कार है, जिन्होंने उस @#$% को मार दिया।’