छिंदवाड़ा में बिजली विभाग की अनेदखी से युवक की मौत, ग्रामीणों ने किया हंगामा

जुन्नारदेव इलाके के गांव में खेत में लटक रहे हाईवोल्टेज तार की चपेट में आने से युवक की मौत, परिजनों ने शव रखकर बिजली दफ्तर में की नारेबाजी, दोषियों पर कार्रवाई की मांग

Publish: Jul 17, 2021, 04:18 PM IST

छिंदवाड़ा में बिजली विभाग की अनेदखी से युवक की मौत, ग्रामीणों ने किया हंगामा
Photo Courtesy: mp breaking

छिंदवाड़ा। जिस विभाग का मंत्री अपने कर्मचारियों को काम सिखाने के लिए पेड़ पर चढ़ जाए, उसके विभाग की गलती से एक घर का चिराग बुझ गया। जुन्नारदेव विधानसभा क्षेत्र के बिरावल गांव में खेत में लटक रहे हाई टेंशन तार की चपेट में आने से एक युवक की मौत हो गई। 22 वर्षीय युवक की मौत से गांव में मातम पसर गया। गुस्साए ग्रामीणों ने शव रखकर बिजली विभाग के दफ्तर में प्रदर्शन किया। परिजनों ने उनके बेटे की मौत के दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। मृतक अरुण के पिता सरवन यदुवंशी का आरोप है कि उन्होंने बिजली विभाग में कई बार शिकायत की थी कि उनके खेत पर हाईटेंशन लाइन लटक रही है, उसे ठीक कर दिया जाए, लेकिन कई बार शिकायत करने के बाद भी विभाग ने तार नहीं हटाया और यह हादसा हो गया है।

ग्रामीणों की मानें तो अरुण अपने कुछ साथियों के साथ खेतों की रखवाली करने गया था। तभी उसके खेत में कुछ जानवर घुसने लगे, जैसे ही वह जानवरों को खेत से भगाने के लिए अंदर गया, चार फुट ऊंचाई पर लटक रही हाईटेंशन लाइन की चपेट में आ गया और उसकी मौत हो गई। अरुण के साथियों ने उसकी मौत की खबर घरवालों को दी। जिसके बाद से उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। परिजन बिलखते हुए बस यही कह रहे हैं कि अगर बिजली विभाग ने उनकी शिकायत पर खेत से 11केवी का हाईटेंशन तार हटा देते तो उनके बेटे की मौत नहीं होती।

और पढ़ें: घाटे में विभाग फिर भी मंत्री का बंगला चमकाने में फूंके 60 लाख रुपए, कांग्रेस बोली- इतनी बेशर्मी और निर्लज्जता क्यों

मृतक के पिता का कहना है कि हाल ही में जून के महीने में ही कई बार उन्होंने बिजली विभाग को तार हटाने के लिए शिकायत की थी, लेकिन बिजली विभाग की ओर से कोई एक्शन नहीं लिया गया। युवक की मौत से आक्रोशित ग्रामीणों ने स्थानीय बिजली विभाग के दफ्तर में शव रखकर हंगामा किया, और बिजली विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

और पढ़ें: सरकार का दावा, ऊर्जा मंत्री के खंभा चढ़ने से बीस फीसदी तक कम हो गईं शिकायतें

हंगामा बढ़ता देख जिला प्रशासन और बिजली विभाग के अधिकारियों ने ग्रामीणों को शांत कराया। जल्द से जल्द मामले की जांच के आदेश दिए। पुलिस ने युवक का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। दोषियों पर कार्रवाई की बात कही जा रही है।