Assam EVM Row: क्या जवाब देगा चुनाव आयोग, कांग्रेस ने पूछे 6 अहम सवाल

असम में दूसरे चरण की वोटिंग के बाद बीजेपी उम्मीदवार के वाहन में ईवीएम मिलने पर सवालों के घेरे में चुनाव आयोग, गले नहीं उतर रही है स्पष्टीकरण

Updated: Apr 02, 2021, 05:24 PM IST

Assam EVM Row: क्या जवाब देगा चुनाव आयोग, कांग्रेस ने पूछे 6 अहम सवाल
Photo Courtesy : The week

नई दिल्ली। असम चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग के बाद बीजेपी नेता के कार में EVM पाए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस घटने ने एक बार फिर से बीजेपी और केंद्रीय चुनाव आयोग के बीच कथित तालमेल को लेकर देशभर में बहस छेड़ दिया है। इसी बीच अब कांग्रेस ने चुनाव आयोग से 6 सवाल पूछे हैं। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने निर्वाचन आयोग से एक के बाद एक लगातार 6 सवाल दागते हुए पूछा है कि क्या चुनाव आयोग जवाब देगा।

क्या इन सवालों का जवाब देगा चुनाव आयोग- सुरजेवाला

सुरजेवाला ने कहा है कि बीजेपी अपनी संभावित हार की आशंका से बौखला गई है, ऐसे में आखिरी उपाय 'ईवीएम' ही बची है। क्या चुनाव आयोग हमारे सवालों का जवाब देगी। इसके बाद सुरजेवाला ने ट्वीट कर 6 सवाल पूछे हैं जो इस प्रकार हैं- 

1. बीजेपी उम्‍मीदवार कृष्‍णेंदु पॉल की कार से EVM क्‍यों बरामद हुई?

2. असम के दिफू में हातीपुरा पोलिंग स्‍टेशन के करीब एक लक्‍जरी कार की डिक्‍की में ईवीएम क्‍यों मिली ?

3. जामुनुख में अधिकारी, सुरक्षाबालों के बगैर ईवीएम क्‍यों लेकर जा रहे थे जबकि यह चुनाव आयोग के निर्देशों का सीधे तौर पर उल्‍लंघन है?

4. क्‍या कालाईगांव के वोटरों ने बूथ से ईवीएम के गायब होने की शिकायत की थी? इस बारे में क्‍या जांच हुई? जांच हुई तो क्‍या कार्रवाई की गई?

5. क्‍या कुछ संदिग्‍ध अधिकारी डिब्रूगढ़ में स्‍ट्रांगरूम के अंदर पाए गए थे, जहां EVM रखी गई हैं? इस मामले में क्‍या कार्रवाई की गई?

6. क्या दूसरे चरण के चुनाव के दौरान 139 पोलिंग स्‍टेशन में EVM में खराबी का मामला सामने आया था, जिसमें जागीरोड, नागांव, होजाई, नीलबागान, लुमडिंग और अन्‍य स्‍थान शामिल हैं? इस मामले में क्‍या कार्रवाई की गई?

 

 

असम आजमाता है और अपनाता है- सुरजेवाला

सुरजेवाला ने आज इस मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर कहा कि, 'असम अवसर देता है, आजमाता है और अपनाता है। मगर जो असम को धोखा देता, वो नकार दिया जाता है। असम के तीन चरणों के चुनाव में पहले दोनों चरण असम की जनता ने सही दिशा में उठाए हैं और भाजपा को बाहर का रास्ता दिखाया है। असम कि विकास के साथ बीजेपी ने धोखा किया है। इसलिए अब असम की जनता उसे चुनाव में मौका नहीं देना चाहती। इसीलिए बीजेपी नेता ईवीएम चोरी करने पर उतारू हो गए हैं, लेकिन वे कामयाब नहीं होंगे।' कांग्रेस नेता ने कहा है कि 2 मई को एक नए सूरज का उदय होगा। 

 

आखिर यह माजरा क्या है- प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने चुनाव आयोग से पूछा है कि आखिर यह माजरा क्या है। प्रियंका ने चुनाव आयोग के स्पष्टीकरण को स्क्रिप्ट करार देते हुए ट्वीट किया, 'क्या स्क्रिप्ट है? चुनाव आयोग की गाड़ी खराब हुई, तभी वहां एक गाड़ी प्रकट हुई। गाड़ी भाजपा के प्रत्याशी की निकली। मासूम चुनाव आयोग उसमें बैठ कर सवारी करता रहा। प्रिय EC, माजरा क्या है? आप देश को इस पर कुछ सफाई दे सकते हैं? या हम सब मिलकर बोलें EC की निष्पक्षता को वनक्कम?' 

 

संयोग या प्रयोग- जयवर्धन सिंह

असम ईवीएम मामले में देशभर के नेताओं ने चिंता जताई है और सख्त सवाल पूछा है। मध्यप्रदेश के कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह ने पूछा है कि यह महज एक संयोग है या प्रयोग। जयवर्धन ने ट्वीट किया, 'क्रोनोलॉजी समझिये.... गाड़ी ख़राब हुई , फिर वहां बीजेपी के उम्मीदवार की गाड़ी आ गई और चुनाव आयोग के अधिकारी इतने लाचार थे कि उन्होंने बीजेपी उम्मीदवार की गाड़ी में ही लिफ़्ट ले ली... यह महज़ एक संयोग नही, बहुत बड़ा प्रयोग है।' 

 

क्या है मामला?

दरअसल, कल शाम असम के करीमगंज जिले पाथरकंडी विधानसभा क्षेत्र में दूसरे चरण की वोटिंग के बाद सफेद रंग की बोलेरो कार में EVM मिली थी। कार का नंबर AS10 B 0022 है। हैरान करने वाली बात यह है कि कार पथरकंडी सीट के वर्तमान विधायक और बीजेपी उम्मीदवार कृष्णेंदु पॉल की है। इस घटना के बाद विपक्ष ने चुनाव आयोग पर कथित रूप से बीजेपी की मदद करने का आरोप लगाया है। 

यह भी पढ़ें: EVM मामले पर राहुल का वार, बोले-EC की गाड़ी ख़राब, BJP की नीयत ख़राब, लोकतंत्र की हालत ख़राब

मामले पर चुनाव आयोग ने स्पष्टीकरण जारी कर बताया है कि ईवीएम ले जाते वक्त चुनाव आयोग की गाड़ी खराब हो गई थी। इसके बाद मदद के लिए अधिकारियों ने एक गाड़ी की व्यवस्था की ताकि ईवीएम को सही-सलामत स्ट्रांग रूम तक पहुंचाया जा सके। निर्वाचन आयोग का दावा है कि अधिकारियों को इस बात की जानकारी ही नहीं थी कि गाड़ी बीजेपी उम्मीदवार की है। चुनाव आयोग का यह स्पष्टीकरण किसी के गले नहीं उतर रही है।