P. Chidambaram: हाथ खाली, जेब खाली, पेट खाली, यही है बिहार सरकार का नारा

Bihar Elections: पूर्व वित्त मंत्री ने पूछा, रैलियों में मोदी ने क्यों नहीं की औद्योगीकरण, बेरोज़गारी और महिला सुरक्षा जैसे मुद्दों पर बात

Updated: Nov 02, 2020, 06:08 PM IST

P. Chidambaram: हाथ खाली, जेब खाली, पेट खाली, यही है बिहार सरकार का नारा
Photo Courtesy: India TV

नई दिल्ली। बिहार में दूसरे चरण के विधानसभा चुनाव से ठीक एक दिन पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने नीतीश सरकार पर तंज कसते हुए नया नारा दिया है। कांग्रेस नेता ने ट्विटर पर लिखा है, नीतीश सरकार के बिहार में प्रदर्शन को लेकर मैने जो सबसे अच्छा नारा सुना वह है 'खाली हाथ, खाली जेब और खाली पेट।' 

चिदंबरम ने ट्वीट के माध्यम से पीएम मोदी द्वारा रविवार को रैली में कही गई बातों पर भी निशाना साधा है। कांग्रेस नेता ने कहा, 'समाचार रिपोर्टों के अनुसार, मोदी जी ने रविवार को बिहार में हुए अपनें चुनावी रैलियों में कहा कि 'आज बिहार में डबल इंजन की सरकार है, जबकि दूसरी तरफ, डबल-डबल युवराज हैं'। साथ ही पीएम ने एनडीए के लिए वोट मांगने की खातिर छठ और गंगा का जिक्र भी याद किया। बगहा में, मोदी जी ने राम मंदिर के निर्माण, अनुच्छेद 370 को खत्म करने और CAA जैसे मुद्दे उठाए।' लेकिन असली मुद्दों से दूर रहे।

क्या कभी बेरोजगारी पर बात की

चिदंबरम ने पूछा है कि पीएम ने रैलियों के दौरान क्या कभी बेरोजगारी पर बात की? उन्होंने कहा, 'अगर आप बिहार के मतदाता हैं, तो सोचिए कि वे आपको बेरोजगारी, नौकरी, नए उद्योग, खाद्यान्न के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य, फसल बीमा, बाढ़ राहत, महिलाओं की सुरक्षा आदि के बारे में क्या बताते हैं? कुछ भी नहीं। आपको बिलकुल खोखली बातों के आधार पर NDA को वोट देने को के लिए कहा जा रहा है।'

किसने कहा बीजेपी को हराना मुश्किल है

चिदंबरम ने रविवार को भी ट्वीट करके दावा किया था बिहार में बीजेपी की हार होने वाली है। उन्होंने कहा था, 'किसने कहा कि भाजपा को हराया नहीं जा सकता है? विपक्षी दलों को यह विश्वास करना ​​होगा कि वे भाजपा को हरा सकते हैं। मुझे उम्मीद है कि बिहार में ऐसा ही होगा।'

कांग्रेस नेता ने इसके साथ कुछ आंकड़े भी साझा किए हैं। इनमें बताया गया है कि 2019 के लोकसभा चुनावों के बाद 381 ऐसे विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव (330) या उपचुनाव (51) हुए हैं, जहां भाजपा उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे थे। इनमें 381 सीटों में में से केवल 163 पर ही बीजेपी की जीत हुई। जबकि  2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा उम्मीदवार इन 381 विधानसभा क्षेत्रों में से 319 पर जीते थे।