7 राज्यों में बर्ड फ्लू का क़हर, हरियाणा में मारे गए एक लाख पक्षी

Bird Flu: कोरोना के साथ अब बर्ड फ्लू की भी मार, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, केरल, गुजरात, हिमाचल प्रदेश और पंजाब में हो रही पक्षियों की मौत

Updated: Jan 05, 2021, 08:48 PM IST

7 राज्यों में बर्ड फ्लू का क़हर, हरियाणा में मारे गए एक लाख पक्षी
Photo Courtesy: Indian Express

नई दिल्ली। देश के कम से कम सात राज्यों में बर्ड फ्लू की बीमारी ने दस्तक दे दी है। हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, केरल, गुजरात, हिमाचल प्रदेश और पंजाब में बड़ी संख्या में कौए, बत्तख, मुर्गियां और बगुले मारे जाने के मामले सामने आए हैं। जिसके बाद इन राज्यों ने बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है। हरियाणा के पंचकुला में करीब 1 लाख मुर्गियों की मौत का मामला सामने आया है। अब पशुपालन और डेयरी विभाग बर्ड फ्लू की फोरेंसिक जांच में जुट गए हैं।

दक्षिण भारत में भी बर्ड फ्लू अपना असर दिखा रहा है, केरल के कोट्टायम और अलप्पुझा जिलों में बर्ड फ्लू से लोग दहशत में हैं। कोट्टायम के बत्तख पालन केंद्र में बर्ड फ्लू से करीब 1,500 बत्तखों की मौत हो चुकी है। जिसके बाद यहां 40 हजार पक्षियों को मारने के आदेश दे दिए गए हैं। बर्ड फ्लू प्रभावित इलाकों के एक किलोमीटर के दायरे में बत्तख, मुर्गियों और अन्य घरेलू पक्षियों को मारने का आदेश जारी किया गया है। H5N8 वायरस से बचाव का एक मात्र यही तरीका है।

और पढ़ें: राजस्थान और एमपी के बाद हिमाचल में भी बर्ड फ्लू का ख़तरा, हजारों पक्षियों की मौत

हिमाचल प्रदेश में भी 1800 प्रवासी पक्षी बेमौत मारे गए हैं। हिमाचल के कांगड़ा में अंतरराष्ट्रीय रामसर वेटलैंड पौंग बांध में विदेशी परिंदों की मौत से दहशत है। जिसके बाद प्रदेश में चिकन, फिश और अंडे बेचने पर रोक लगा दी गई है।  

राजस्थान के कई जिलों में सोमवार को 170 से अधिक पक्षियों की मौत की खबर है। पशुपालन विभाग के अनुसार राज्य में अब तक करीब 425 से अधिक कौवों, बगुलों और अन्य पक्षी मारे गए हैं। झालावाड़ जिले के पक्षियों के सैंपल जांच के लिए भोपाल भेजे गए हैं। राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान भेजा की जांच में कई पक्षियों के सैंपल्स में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। गौरतलब है कि पिछले दिनों मध्य प्रदेश के इंदौर में भी 376 कौवों की मौत हो चुकी है, जिनमें करीब 50 कौवों में बर्ड फ्लू वायरस की पुष्टि हुई है।

और पढ़ें: कोरोना के बाद बर्ड फ्लू का कहर, इंदौर में 83 कौवों की मौत

जानकारों का कहना है कि बर्ड फ्लू एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस H5N1 के संक्रमण के कारण होता है। यह वायरस स्वशन तंत्र पर असर डालता है। यह बीमारी पक्षियों के साथ-साथ इंसानों को भी अपनी चपेट में ले सकती है। कच्चा मीट या कच्चा अंडा खाने से इंसानों को भी इसका खतरा हो सकता है। लोगों को सलाह दी जा रही है कि अंडे या पक्षियों से जुड़ी किसी चीज को छूने के बाद हाथों को अच्छी तरह साफ करें।