अमेरिकी उपराष्ट्रपति चुने जाने पर कमला हैरिस के ननिहाल में त्योहार सा माहौल, मिठाई के साथ आतिशबाज़ी

कमला हैरिस की जीत के बाद उनके गांव वाले खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं, गांव वालों ने आतिशबाजी की और एक दूसरे को मिठाइयाँ बांटी 

Updated: Nov 08, 2020, 07:18 PM IST

अमेरिकी उपराष्ट्रपति चुने जाने पर कमला हैरिस के ननिहाल में त्योहार सा माहौल, मिठाई के साथ आतिशबाज़ी
Photo Courtesy: Newsleaders

अमेरिकी उपराष्ट्रपति का चुनाव जीतने के बाद भारतीय मूल की कमला हैरिस के ननिहाल में भी खुशी का माहौल है। तमिलनाडु के तुलासेंतिरापुरम गांव में लोगों ने उन्हें जीत की बधाई दी है। लोगों ने अपने घरों के बाहर रंगोली बनाकर खुशी का इजहार किया। पूरे गांव में त्यौहार जैसा माहौल है।

कमला हैरिस के गांव तुलासेंतिपुरम में आम लोगों के साथ मंत्री भी जश्न में डूबे हैं। कमला हैरिस की जीत के बाद उनके गांव वाले खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। गांव वालों ने आतिशबाजी भी की और एक दूसरे को मिठाई बांटी। उनका कहना है कि वे चाहते हैं कमला हैरिस गांव में एक बार जरूर आए। वहीं इस दौरान तमिलनाडु के मंत्री कामराज कमला हैरिस के गांव पहुंचे। वहां उन्होंने पहले मंदिर में पूजा की और बाद में लोगों के जश्न में शामिल हुए। मत्री कामराज ने कहा कि यह गर्व का पल है।

गांव वाले कई दिनों से कमला हैरिस की जीत के लिए दुआएं मांग रहे थे। टीवी के सामने बैठकर परिणाम का इंतजार कर रहे थे। तुलासेंतिपुरम की महिलाओं का कहना है कि उन्हें पूरा विश्वास था कि कमला हैरिस ही जीतेंगी। वे उनके गांव के लिए प्रेरणास्रोत हैं। गांव की महिलाओं में कमला हैरिस को लेकर काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। यहां दीवारों पर हैरिस के पोस्टर देखे जा सकते हैं, जिसमें उन्हें जीत के लिए बधाई दी गई है।

कमला हैरिस की मां तमिलनाडु के तुलासेंतिपुरम की थी और उनके पिता जैमेका के रहने वाले थे। तुलासेंतिपुरम के लोग चाहते थे कि अमेरिकी चुनाव में उनकी नवासी कमला हैरिस ही जीते और ऐसा ही हुआ। अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी कमला हैरिस का सामना रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार माइक पेंस से था।