Congress: क्या मन की बात के बाद असल मुद्दों पर बात करेंगे मोदी

कांग्रेस ने पत्रकारों और देश के आम नागरिकों के खिलाफ कार्रवाई पर चुप्पी को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है

Updated: Jan 31, 2021, 08:31 PM IST

Congress: क्या मन की बात के बाद असल मुद्दों पर बात करेंगे मोदी
Photo Courtesy: Business Standard

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात पर कांग्रेस ने निशाना साधा है। पार्टी ने प्रधानमंत्री पर ज़रूरी मुद्दों को लेकर खामोशी बनाए रखने का आरोप लगाते हुए पूछा है कि क्या मोदी अपने मन की बात करने के बाद देश के असली मुद्दों पर भी बात करेंगे? कांग्रेस ने प्रधानमंत्री की तीखी आलोचना करते हुए कहा है कि मोदी खुद से किए गए हर सवाल को टाल जाते हैं।

कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए सवाल उठाते हुए कहा है, 'प्रधानमंत्री के मन की बात से असली मुद्दे गायब हैं। प्रधानमंत्री सवालों से भागते हैं, खुद से किये हर सवाल को टालते हैं। प्रधानमंत्री स्पष्ट करें- क्या मन की बात के बाद असली मुद्दों पर बात होगी?

कांग्रेस ने अपने इस ट्वीट में यह भी बताया है कि उसके हिसाब से वो कौन सी बातें हैं जो मोदी के मन की बात से गायब हैं। कांग्रेस ने सवाल पूछा है कि उनकी सरकार ख़बर दिखाने के लिए पत्रकारों को गिरफ्तार क्यों कर रही है? कांग्रेस का दूसरा सवाल ये है कि दीप सिद्धू के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई? कांग्रेस ने ये भी पूछा है कि अमित शाह इस्तीफ़ा कब देंगे?

इसके साथ ही कांग्रेस ने पत्रकारों और आम नागरिकों के खिलाफ हो रही कार्रवाई को लेकर भी प्रधानमंत्री से सवाल किया है। कांग्रेस ने कहा है, 'देशवासियों के लोकतांत्रिक अधिकारों पर भाजपा के 'न्यू इंडिया' का तानाशाही विचार भारी पड़ रहा है। मोदी सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद कर अपने अधिकार मांगने वाला हर नागरिक जोर-जुल्म की भेंट चढ़ रहा है। इसके साथ ही कांग्रेस ने तंज़ करते हुए कहा है कि मोदी सरकार के कथित न्यू इंडिया में ईमानदार पत्रकारिता, शांतिपूर्ण विरोध और चुटकुले अपराध बन गए हैं। 

 

 

कांग्रेस ने मोदी सरकार के तानाशाही रवैए की निंदा करते हुए कहा है, 'तानाशाही सल्तनत को सत्य से डर लगता है, तानाशाही सल्तनत को अहिंसा से डर लगता है। इसलिये तानाशाही सल्तनत का शासक निष्पक्ष पत्रकारिता पर जुल्म करता है।'

 

 

अपने इस ट्वीट के साथ कांग्रेस ने जो वीडियो शेयर किया है, वो स्वतंत्र पत्रकार मनदीप पूनिया को सिंघु बॉर्डर के पास से गिरफ्तार किए जाने के समय का बताया जा रहा है। कांग्रेस ने उन्हें जल्द से जल्द रिहा किए जाने की मांग भी की है।