चाकू का धार तेज रखो, हिंसक बयान देकर चौतरफा घिरी प्रज्ञा ठाकुर, देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग

बीजेपी की बड़बोली सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कर्नाटक के शिवमोगा में भड़काऊ बयान देते हुए कहा था कि हिंदुओं को घरों में धारदार हथियार रखना चाहिए, ताकि दुश्मनों के सिर अच्छे से काट सकें।

Updated: Dec 27, 2022, 07:40 PM IST

चाकू का धार तेज रखो, हिंसक बयान देकर चौतरफा घिरी प्रज्ञा ठाकुर, देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग

नई दिल्ली। बीजेपी की बड़बोली सांसद प्रज्ञा ठाकुर हिंसक बयान देकर चौतरफा घिर गई है। प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ देशद्रोह की कार्रवाई करने की मांग तूल पकड़ रहा है। देश के कई राजनीतिक दलों और सिविल सोसायटी के लोगों ने प्रज्ञा के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। हालांकि, बीजेपी ने इस मामले पर चुप्पी साध रखा है।

बीजेपी की बड़बोली सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कर्नाटक के शिवमोगा में लोगों को अल्पसंख्यकों के खिलाफ भड़काते हुए कहा था कि हिंदुओं को घरों में धारदार हथियार रखना चाहिए, ताकि दुश्मनों के सिर अच्छे से काट सकें। इस बयान की चौतरफा आलोचना हो रही है। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठतम वकीलों में शुमार प्रशांत भूषण ने कहा कि, 'तथ्य यह है कि इस आतंकी आरोपी को रिहा कर दिया गया और सांसद बना दिया गया। अब उसे खुलेआम ऐसा जहर उगलने की इजाजत है। यह इस बात का सबूत है कि देश में कानून का शासन ध्वस्त हो गया है।'

कांग्रेस ने प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष केके मिश्रा ने कहा कि, 'केंद्र सरकार को प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ अब देशद्रोह का मामला दर्ज करके कार्रवाई करनी चाहिए क्योंकि उन्होंने लोगों को हिंसा के लिए उकसाया है।'

समाजवादी पार्टी ने इस बयान की निंदा करते हुए कहा कि भाजपा देश को गृहयुद्ध में धकेल रही है। समाजवादी पार्टी के मीडिया सेल ने एक ट्वीट में लिखा कि, 'भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर खुद बम ब्लास्ट की आरोपी रही हैं। गांधी जी का अपमान करने के बाद अब चाकू की धार तेज करने का बयान दे रही है। अब प्रधानमंत्री जी खुद देश को बताएं कि देश संविधान से चलेगा या चाकू से? क्या भाजपा देश की जनता को "गृहयुद्ध" में धकेल रही है? शर्मनाक!' 

आरजेडी के मीडिया इंचार्ज अरुण कुमार यादव ने कहा कि, 'मालेगाँव बम ब्लास्ट की आरोपी BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर को खुलेआम विवादित बोल बोलने के लिए प्रधानमंत्री व बीजेपी ने छोड़ रखा है। जो अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। मैं राष्ट्रपति से प्रज्ञा ठाकुर की लोकसभा सदस्यता समाप्त करने और कानूनी कार्रवाई कर जेल भेजने की मांग करता हूँ। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर मानवता की खून की प्यासी है।

आरएलडी नेता प्रशांत कनौजिया ने कहा कि, 'मालेगांव ब्लास्ट आरोपी प्रज्ञा ठाकुर कह रही है कि चाकू धार रखो हथियार धार रखो। हालांकि कोर्ट के बुलावे पर व्हीलचेयर-कैंसर आदि का बहाना बना लेती हैं। अगर कोई मुस्लिम बोल देता तो टीवी डिबेट एक हफ्ता चलता तथा UAPA/NSA लग जाता। 3 मीटर भगवा खरीद-ओढ़ कर आतंक फैलाने की इजाजत है?'

उधर मानवाधिकार कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला ने प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ शिवमोगा में शिकायत दर्ज कराई है। शहजाद पूनावाला ने इसे नफरत फैलाने वाला बयान बताते हुए पुलिस से मांग की है कि उनपर भारतीय दंड संहिता की धारा 153-A, 153-B, 268, 295-A, 298, 504, 508 के तहत केस दर्ज किया जाए।

बता दें कि भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर पर 2008 मालेगांव केस ब्लास्ट के दाग हैं। इस ब्लास्ट में 6 लोग मारे गये थे और 100 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। मालेगांव में एक मस्जिद के नजदीक धमाका हुआ था। यह धमाका 29 सितंबर, 2008 को हुआ था।