टीकाकरण की रफ़्तार में आयी गिरावट, 3 हफ़्ते में 61 लाख से गिरकर 34 लाख पर पहुँचा आंकड़ा

21 जून से 27 जून के बीच एक दिन में औसतन 61.14 लाख टीके की खुराक दी गई, जबकि 28 जून से 4 जुलाई के बीच प्रत्येक दिन औसतन 41.92 लाख टीके दिए गए, बीते हफ्ते में टीकाकरण की दैनिक औसत गिरकर 34.32 लाख रह गई

Updated: Jul 13, 2021, 05:34 PM IST

टीकाकरण की रफ़्तार में आयी गिरावट, 3 हफ़्ते में 61 लाख से गिरकर 34 लाख पर पहुँचा आंकड़ा

नई दिल्ली। भारत में कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार तो थम गई है, लेकिन इसके साथ साथ चिंताजनक बात यह है कि टीकाकरण की रफ्तार भी उसी तर्ज पर कम हो रही है। पिछले तीन हफ्तों में देश भर में टीकाकरण की दैनिक औसत में भारी गिरावट देखी गई है। बीते 21 दिनो में टीकाकरण की दैनिक औसत में लगभग 27 लाख टीकों की गिरावट दर्ज की गई है। 

Cowin पोर्टल के मुताबिक 21 से 27 जून के बीच देश भर में प्रत्येक दिन के हिसाब से औसतन 61.14 लाख टीकों की खुराक दी गई। इसके बाद से ही टीकाकरण में लगातार गिरावट होती चली गई। 27 जून से 4 जुलाई के बीच देश भर में औसतन 41.92 लाख वैक्सीन की डोज दी गई। जबकि 5 जुलाई से 11 जुलाई के दरमियान टीकों की दैनिक औसत का आंकड़ा 34.32 लाख पर आकर ठहर गया। 

यह भी पढ़ें : अलग अलग वैक्सीन की डोज लेना हो सकता है घातक, WHO की चीफ साइंटिस्ट ने दी चेतावनी

हालांकि टीकाकरण में भारी गिरावट के बावजूद कुछ राज्यों में टीकाकरण में निरंतरता अब भी बरकरार है। केरल और जम्मू कश्मीर में टीकाकरण के दैनिक औसत में निरंतरता दर्ज की गई है। अंडमान निकोबार आइलैंड और दादरा नागर हवेली में भी टीकाकरण में निरंतरता दर्ज की गई है।

भाजपा शासित राज्यों में आई टीकाकरण में भारी गिरावट 

टीकाकरण में गिरावट के मामले में भाजपा शासित कर्नाटक, हरियाणा और गुजरात में भारी गिरावट दर्ज की गई है। इतना ही नहीं ओडिशा के 30 जिलों में से 24 जिलों में टीकों का स्टॉक खत्म हो गया है। इसको लेकर कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है। चिदंबरम ने केंद्र की मोदी सरकार पर वैक्सीन को लेकर देश की जनता से झूठ बोलने का आरोप लगाया है।

कांग्रेस नेता ने ओडिशा का उदाहरण देते हुए कहा है कि ओडिशा के 30 में से 24 जिलों में वैक्सीन खत्म हो गई है। ओडिशा में बीजेपी की सहयोगी बीजू जनता दल का शासन है। चिदंबरम ने मोदी सरकार को घेरते हुए कहा है कि वैक्सीन की कमी की शिकायत को सिरे से खारिज करने वाली केंद्र सरकार का अब क्या कहना है?

कांग्रेस नेता ने कहा है कि वैक्सीन की कमी एक तथ्य है। वैक्सीन के प्रोडक्शन को बढ़ा चढ़ाकर बताया जा रहा है। जबकि वैक्सीन का आयात अब तक एक रहस्य बना हुआ है। दिसंबर तक हर व्यक्ति को टीका लगा देने का केंद्र सरकार का दावा खोखला है। क्या नए स्वास्थ्य मंत्री टीकाकरण अभियान का सच देश की जनता के सामने रखेंगे? 

यह भी पढ़ें : देश भर के 58 जिलों में दस फीसदी से ज्यादा है पॉजिटिविटी रेट, नॉर्थ ईस्ट के 37 ज़िले शामिल

टीकाकरण में इस कदर भारी गिरावट चिंताजनक है। विशेषकर अगस्त के दूसरे पखवाड़े में कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक की आशंका जताई जा रही है। उत्तर पूर्वी राज्यों के ज्यादातर जिलों में दस फीसदी से अधिक पॉजिटिविटी रेट बरकरार है। प्रधानमंत्री मोदी भी आज इस मसले पर उत्तर पूर्वी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअली बैठक करने वाले हैं।