पंजाब में विधायकों की खरीदफरोख्त मामले में AAP की शिकायत पर FIR दर्ज, विजिलेंस ब्यूरो को सौंपी जांच

AAP ने दावा किया कि बीजेपी पंजाब में मुख्यमंत्री भगवंत मान की सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है और उसने आप के 10 विधायकों को दलबदल के लिए 25-25 करोड़ रुपये की पेशकश की है।

Updated: Sep 15, 2022, 09:18 AM IST

पंजाब में विधायकों की खरीदफरोख्त मामले में AAP की शिकायत पर FIR दर्ज, विजिलेंस ब्यूरो को सौंपी जांच

चंडीगढ़। पंजाब की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी की ओर से बीजेपी पर उसके विधायकों को कथित रूप से खरीदने की शिकायत के बाद पंजाब पुलिस ने इस संबंध में एफआईआर दर्ज कर ली है। पुलिस ने इस संबंध में भ्रष्टाचार निवारण कानून के तहत केस दर्ज करते हुए मामले की जांच विजिलेंस ब्यूरो को सौंपी है।

दरअसल, अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी ने दावा किया कि बीजेपी पंजाब में मुख्यमंत्री भगवंत मान की सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है। आप का दावा है कि भाजपा की ओर से हमारे 10 विधायकों को दलबदल के लिए 25-25 करोड़ रुपये की पेशकश की गई है। आप के इन आरोपों पर पुलिस ने भ्रष्टाचार निवारण कानून के तहत केस दर्ज करते हुए मामले की जांच विजिलेंस ब्यूरो को सौंपी है।

यह भी पढ़ें: सुब्रमण्यम स्वामी को 6 हफ्ते के भीतर खाली करना होगा सरकारी बंगला, दिल्ली हाइकोर्ट का आदेश

इस मामले में एसएएस नगर के थाने में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 8 और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 171-बी और 120-बी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। पंजाब पुलिस के आधिकारिक प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस ने प्रथम दृष्टया आधार पर प्राथमिकी दर्ज कर ली है और मानक दिशानिर्देशों के अनुसार जांच विजिलेंस ब्यूरो को सौंप दी गई है। आप के प्रतिनिधिमंडल ने राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) से इसकी शिकायत की थी।

डीजीपी ऑफिस के पास मीडिया को संबोधित करते हुए राज्य के वित्त मंत्री हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि बीजेपी की करतूत का पर्दाफाश करने के लिए उन्होंने डीजीपी से निष्पक्ष जांच की मांग की और उन्हें पर्याप्त सबूत भी दिए। चीमा ने कहा कि जालंधर पश्चिम की विधायक शीतल अंगुरल को कथित तौर पर जान से मारने की धमकी देने के आरोप में भाजपा नेताओं और एजेंटों के खिलाफ भी शिकायत दर्ज कराई गई है।

इस पूरे मामले पर आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के बाद ये लोग हमारे विधायक खरीदने के लिए पंजाब पहुंच गए। इनके पास इतने करोड़ रुपये कहां से आ रहे हैं? ये लोग समझ लें कि हम कांग्रेस नहीं हैं, हमें खरीदना किसी के बस की बात नहीं है। वहीं इस मामले में पंजाब के सीएम भगवंत मान ने कहा कि BJP पर सत्ता का नशा सवार है। लोग वोट नहीं दें तो वह विधायक खरीदने का रास्ता चुनते हैं, लेकिन मैं BJP से कहना चाहता हूं- सिकंदर को भी पंजाबियों ने रोका था।