गाजियाबाद में भीषण हादसा: अंतिम संस्कार में लोगों पर गिरी छत, 18 की मौत

यूपी के ग़ाज़ियाबाद में एक बुजुर्ग का अंतिम संस्कार करने गए थे कई लोग, अचानक श्मशान घाट में गिरी छत, मौके पर पहुंची दमकल विभाग और NDRF की टीम, राहत और बचाव कार्य जारी

Updated: Jan 03, 2021, 11:57 PM IST

गाजियाबाद में भीषण हादसा: अंतिम संस्कार में लोगों पर गिरी छत, 18 की मौत
Photo Courtesy : Jansatta

गाजियाबाद। दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में बारिश की वजह से एक भीषण हादसा हो गया। जिले के मुरादनगर में अंतिम संस्कार में शामिल होने श्मशान घाट गए लोगों पर छत गिर गयी। इस हादसे में अबतक 18 लोगों की मौत हो चुकी है। आशंका जताई जा रही है कि छत के नीचे कई और लोग दबे हो सकते हैं। मौके पर दमकल विभाग और एनडीआरएफ की टीम राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई है।

हादसे को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुख जताया है। उन्होंने मंडल आयुक्त मेरठ और आईजी रेंज मेरठ को मौके पर जाकर घटना की रिपोर्ट देने का आदेश दिया है। सीएम ने मृतकों के आश्रितों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: कोरोना की वैक्सीन कब,कहां, किसे और कैसे लगेगी, यहां जानिए

जानकारी के मुताबिक जिले के मुरादनगर थाना क्षेत्र के दयानंद कॉलोनी में रहने वाले एक बुजुर्ग व्यक्ति रामधन बीमार थे। शनिवार रात उनकी मौत हो गई। रविवार को उनके सभी परिवार और रिश्तेदार जब इकट्ठा हो गए तब उनके शव को श्मशान घाट लेकर जाया गया। इस दौरान आसपड़ोस के लोगों को मिलाकर श्मशान में करीब 100 लोग जमा हो गए थे। 

सुबह से हो रही बारिश की वजह से लोग श्मशान घाट परिसर में बने भवन के अंदर खड़े थे। इसी दौरान अचानक जमीन धंसने से दीवार बैठ गई और छत भरभराकर गिर गई। यह सब इतना अचानक हुआ कि किसी को भागने तक का मौका नहीं मिला। चीख पुकार के बीच कुछ लोगों ने मौके पर ही प्राण त्याग दिए वहीं कुछ ने बमुश्किल दौड़कर अपनी जान बचाई।

यह भी पढ़ें: राजस्थान और एमपी के बाद हिमाचल में भी बर्ड फ्लू का ख़तरा, हजारों पक्षियों की मौत

बताया जा रहा है कि हादसे में जो 18 मरे हैं उनमें से अधिकांश लोग रामधन के रिश्तेदार हैं। आशंका जताई जा रही है कि कई अन्य लोग अब भी मलबे में दबे हुए हैं। लेकर मेरठ के डिविजनल कमिश्नर अनीता सी मेश्राम ने कहा कि मुरादनगर में शेड गिरने से इसमें फंसे 38 लोगों को निकाला गया है। बाकी लोगों का इलाज़ अस्पताल में चल रहा है। जांच शुरू कर दी है. दोषियों के खिलाफ कठोर से कठोर कार्रवाई की जाएगी।