अपराधी को भगाने वाले नेता को बीजेपी ने सभी पदों से हटाया, नारायण भदौरिया की तलाश में है कानपुर पुलिस

नारायण भदौरिया ने मोस्ट वांटेड अपराधी मनोज सिंह को पुलिस के चंगुल से छुड़ा कर भगा दिया था, अपराधी को भगाने में बीजेपी नेता के समर्थकों ने भी मदद की थी, कानपुर पुलिस अब बीजेपी नेता की तलाश में जुटी हुई है, साथ ही पुलिस ने सात आरोपियों और बीजेपी नेता की तस्वीर भी जारी कर दी है

Updated: Jun 04, 2021, 12:10 PM IST

अपराधी को भगाने वाले नेता को बीजेपी ने सभी पदों से हटाया, नारायण भदौरिया की तलाश में है कानपुर पुलिस
Photo Courtesy: Aaj Tak.in

कानपुर। मोस्ट वांटेड अपराधी को पुलिस के चंगुल से भगाने वाले भाजपा नेता नारायण भदौरिया को बीजेपी ने पार्टी के सभी पदों से हटा दिया है। पुलिस द्वारा नारायण भदौरिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और उसकी तलाश में कई जगहों पर छापेमारी करने के बाद बीजेपी ने अपने नेता के खिलाफ कार्रवाई की है। कानपुर पुलिस नारायण भदौरिया की तलाश में जुटी हुई है। इसके लिए कानपुर पुलिस ने बीजेपी नेता की तस्वीर जारी कर दी है, और नेता का पता लगने पर तुरंत ही पुलिस ने सूचना देने की अपील की है। 

बुधवार शाम को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें नारायण भदौरिया को अपने समर्थकों के साथ क्षेत्र के मोस्ट वांटेड अपराधी मनोज सिंह को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाते हुए देखा गया था। कानपुर पुलिस ने उसी वीडियो के आधार पर नारायण भदौरिया और सात अन्य लोगों की तस्वीरें जारी की है। कानपुर पुलिस ने जिन सात लोगों की तस्वीरें जारी की हैं, उसमें तीन अज्ञात व्यक्ति हैं। जबकि राज बल्लभ पांडे, अपराधी मनोज सिंह, विकास तिवारी, रॉकी और बाबा ठाकुर के नाम पुलिस ने जारी किए हैं। मनोज सिंह पर 25 हज़ार की इनामी राशि भी पुलिस ने जारी की है। 

यह भी पढ़ें : अपराधी को पुलिस की गिरफ्त से भगाने वाले बीजेपी नेता के खिलाफ मुकदमा दर्ज, अपराधी और बीजेपी नेता की तलाश में जुटी पुलिस

नारायण भदौरिया को मनोज सिंह का करीबी माना जाता है। मनोज सिंह के खिलाफ 30 से अधिक संगीन मामलों के आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। बुधवार को पुलिस नौबस्ता थाना क्षेत्र के उस्मानपुर इलाके से मनोज सिंह को गिरफ्तार कर ले ही जा रही थी कि नारायण भदौरिया और उनके समर्थकों ने पुलिस के साथ हाथापाई शुरू कर दी। पुलिस भी भीड़ के सामने बेबस नजर आई, और अपराधी मनोज सिंह पुलिस की गिरफ्त से भागने में कामयाब हो गया। इसके बाद से ही पुलिस सभी आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है।