सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो पेगासस जासूसी कांड की जांच, पीएम से मिलने के बाद ममता बनर्जी ने की टिप्पणी

ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के बाद मीडिया से कहा कि पीएम के साथ उनकी यह औपचारिक मुलाक़ात थी। इस मुलाक़ात में उन्होंने राज्य में वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया, लेकिन मीडिया में पेगासस की जाँच को ज़रूरी बताया

Updated: Jul 27, 2021, 07:49 PM IST

सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो पेगासस जासूसी कांड की जांच, पीएम से मिलने के बाद ममता बनर्जी ने की टिप्पणी
Photo Courtesy: Social media

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पेगासस जासूसी कांड की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच कराए जाने की मांग की है। ममता बनर्जी ने इस मसले पर सर्वदलीय बैठक भी बुलाए जाने की अपील की है। अपनी यात्रा के दूसरे दिन, मंगलवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत में ये बयान दिया है। ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी लगातार संसद के मौजूदा मॉनसून सत्र में पेगासस की जांच का मुद्दा उठा रही है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद राज्य में दो जजों की कमेटी बनाकर पेगासस जासूसी कांड की जांच का एलान किया है। पेगासस जासूसी कांड के शिकार लोगों में ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी का नाम भी है। सोमवार को पश्चिम बंगाल सरकार ने पेसगास जासूसी कांड को लेकर सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज जस्टिस  मदन बी लोकुर और कोलकाता हाई कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस जस्टिस भट्टाचार्य की दो सदस्यीय जांच आयोग का गठन किया है। 

यह भी पढ़ें : पेगासस जासूसी कांड: पश्चिम बंगाल में जांच कमेटी गठित, जस्टिस लोकुर की अध्यक्षता में होगी जासूसी की जांच

जासूसी कांड की जांच का मसला संसद में भी गर्म है। 19 जुलाई से शुरू हुए मॉनसून सत्र का एक भी दिन ऐसा नहीं गया, जब विपक्ष ने इस मसले पर हंगामा न किया हो। विपक्षी पार्टियां सरकार से इस जासूसी कांड का जवाब चाहती हैं लेकिन सरकार इसे पूरी तरह नकार रही है। यहां तक कि प्रधानमंत्री ने यह भी कहा है कि कांग्रेस पार्टी संसद नहीं चलने दे रही है, िसलिे उसका असली चेहरा सामने लाएं। 

पीएम मोदी से मुलाकात में ममता बनर्जी ने उठाया वैक्सीन की कमी का मुद्दा

पश्चिम बंगाल का चुनाव जीतने के बाद ममता बनर्जी पहली बार दिल्ली दौरे पर हैं। उन्होंने पीएम से मुलाकात में राज्य के लोगों के लिए दो मांगे रखीं। मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने मीडिया को बताया कि उन्होंने पश्चिम बंगाल के लिए ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन मुहैया कराने की मांग की है। ममता बनर्जी ने यह भी कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री को इस बात से अवगत कराया कि राज्य को जनसंख्या के हिसाब से कम अनुपात में वैक्सीन मिली है। इसलिए पश्चिम बंगाल को पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध कराई जानी चाहिए। 

उन्होंने प्रधानमंत्री से पश्चिम बंगाल का नाम बदले जाने हेतु लंबे समय से चली आ रही मांग को लेकर भी चर्चा की। ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी से पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर बांग्ला किए जाने की मांग उठाई। इन सभी मसलों के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि हम इस पर विचार करेंगे।

यह भी पढ़ें : दिल्ली दौरे पर ममता बनर्जी की कमलनाथ और आनंद शर्मा से मुलाकात, सियासी अटकलों का दौर शुरू

ममता बनर्जी दिल्ली के पांच दिवसीय दौरे पर हैं। मंगलवार शाम को प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करने से पहले उन्होंने कांग्रेस नेता कमल नाथ और आनंद शर्मा से मुलाकात की। कमल नाथ और आनंद शर्मा से ममता बनर्जी की मुलाकात के बाद राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा जोर पकड़ने लगी कि ममता बनर्जी और दोनों नेताओं के बीच हुई मुलाकात आगामी लोकसभा चुनावों की रणनीति के मद्देनजर हुई है। हालांकि दोनों ही नेताओं ने इस दावे को खारिज कर दिया। 

कमल नाथ ने कहा कि हमारी किसी भी रणनीति पर चर्चा नहीं हुई। रणनीति के बारे में हमारी पार्टी के नेता बात करेंगे। मैं उन्हें पश्चिम बंगाल की जीत की बधाई देने गया था। हमने केवल वर्तमान घटनाक्रम और महंगाई को लेकर चर्चा की। कमल नाथ ने कहा कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की जीत ने पूरे देश में एक मजबूत संदेश दिया है। बुधवार को ममता बनर्जी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात कर सकती हैं।