71 लाख PF अकाउंट बंद होने पर बोले राहुल गांधी, ये केंद्र के रोजगार मिटाओ अभियान की एक और उपलब्धि

नवजीवन अख़बार के मुताबिक़ पिछले 9 महीने में 71 लाख ईपीएफ खाते बंद हुए हैं, जिसको लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोला है

Updated: Mar 18, 2021, 06:08 PM IST

71 लाख PF अकाउंट बंद होने पर बोले राहुल गांधी, ये केंद्र के रोजगार मिटाओ अभियान की एक और उपलब्धि
photo courtesy: news18

दिल्ली। 71 लाख पीएफ अकाउंट बंद होने पर राहुल गांधी ने सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर नवजीवन अखबार की एक खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया है, जिसमे लिखा गया है कोरोना महामारी के दौरान लाखों कर्मचारी बेरोजगार हो गए। पिछले 9 महीने में 71 लाख ईपीएफ खाते बंद हुए हैं। इसी रिपोर्ट के साथ कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लिखा कि 'आपकी नौकरी गई और ईपीएफ अकाउंट बंद करना पड़ा  केंद्र के रोजगार मिटाओ अभियान की एक और उपलब्धि',  इससे पहले एक दूसरे ट्वीट पर राहुल ने लिखा कि पढ़े-लिखे युवा नौकरी के लिए भटक रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि सरकार असली डिग्री वाले ओबीसी-एससी-एसटी को प्रताड़ित कर रही है। उन्होंने इसी ट्वीट के  साथ एक रिपोर्ट शेयर की थी, जिसमें आईआईटी एनआईटी जैसे संस्थानों में खाली पदों का भी जिक्र था।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष के पहले 9 महीनों में बंद होने वाले पीएफ अकाउंट की संख्या 6.5 फीसदी बढ़कर 71 लाख पहुंच गई है। 2019-20 के पहले नौ महीनों में ये आंकड़ा 66.7 लाख था। इसमें रिटायरमेंट, नौकरी जाना, नौकरी बदलना आदि कारण शामिल है। वहीं मौजूदा वक्त में देश में 5 करोड़ से ज्यादा पीएफ अकाउंट हैं।

उल्लेखनीय है कि बीते मार्च के महीने में सरकार द्वारा लॉकडाउन का एलान कर दिया गया था। मई के महीने तक कड़े प्रतिबंध लगा दिए गए थे। जिससे बड़ी संख्या में उद्योग धंधे और कम्पनियां बंद हुईं। आर्थिक प्रगति की रफ्तार माइनस में चली गई और जून, जुलाई के आखिरी महीने में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई तो लोगों को रोजगार पहले जैसे नहीं मिल पाए। इस समय देश में बेरोजगारी दर 6.9 फीसदी बतायी जा रही है। जो चार दशकों में सबसे ज्यादा है।