श्मशान और कब्रिस्तान दोनों... जो कहा सो किया, कोरोना से बिगड़े हालात को लेकर केंद्र पर बरसे राहुल

राहुल ने कोरोना को बताया मोदी निर्मित आपदा, कोरोना से हो रही मौत पर अपनाया आक्रामक रुख, प्रियंका ने भी साधा निशाना

Updated: Apr 17, 2021, 03:08 PM IST

श्मशान और कब्रिस्तान दोनों... जो कहा सो किया, कोरोना से बिगड़े हालात को लेकर केंद्र पर बरसे राहुल
Photo courtesy: DNA India

नई दिल्ली। देशभर में बेतहाशा बढ़ रहे कोरोना के मामलों को लेकर कांग्रेस ने केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ आक्रामक रुख अख्तियार किया है। कोरोना से हर रोज हो रही हजारों मौतों को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका ने केंद्र पर सीधा हमला बोला है। राहुल गांधी ने कोरोना को मोदी निर्मित आपदा करार दिया है। कांग्रेस नेता ने ट्वीट किया, 'शमशान और क़ब्रिस्तान दोनों... जो कहा सो किया।' 

राहुल ने इस ट्वीट से अप्रत्यक्ष तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान पर हमला बोला है जिसमें उन्होंने श्मशान बनाने की बात कही थी। दरअसल, साल 2017 में उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान फतेहपुर में एक सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि गांव में अगर कब्रिस्तान बनता है तो श्मशान भी बनना चाहिए। 

यह भी पढ़ें: उत्तरप्रदेश सरकार के कोविड कमांड सेंटर ने कोरोना मरीज को दी मर जाने की सलाह

उधर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी पीएम मोदी पर पिछले 70 साल की सरकार के किये गए कार्यों पर पानी फेरने का आरोप लगाया है। प्रियंका ने ट्वीट किया, 'यह बेहद हैरान करने वाली बात है कि भारत में कोविड का प्रकोप बढ़ रहा है, और 70 साल की सरकार की मेहनत पर पानी फेरते हुए हमारा देश वैक्सीन का निर्यातक से आयातक बन गया है। नरेंद्र मोदी ऐसे पायलट हैं, जिसने बोर्डिंग पास पर अपनी फोटो बस इसलिए लगाई है ताकि इमरजेंसी में आसानी से बाहर निकल सकें।' 

प्रियंका ने एक अन्य ट्वीट के माध्यम से उत्तरप्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने लिखा, 'यूपी में 10 दिन में संक्रमण 7 गुना हो गया। अब ये गाँवों की ओर भी बढ़ रहा है। शहरों में टेस्ट की भयानक कमी है और उनमें से RTPCR आधे से भी कम हो रहा है बाकी Antigen। लखनऊ, नोएडा, गाजियाबाद, बनारस, इलाहाबाद में भी टेस्ट में वेटिंग है। अगर प्रदेश को बचाना है तो अधिकतम RTPCR करिए।' 

कांग्रेस नेताओं का ये बयान ऐसे समय में आया है जब देशभर में हर दिन 2 लाख से ज्यादा कोरोना केस सामने आ रहे हैं और हजारों लोगों की मौत हो रही है। कई राज्यों में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। अस्पतालों में न पर्याप्त बेड हैं न हीं ऑक्सीजन। प्रत्येक राज्यों में मौत का तांडव जारी है। कोरोना से हो रही मौतों का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि देशभर में कई जगहों पर मृतकों को जलाने व दफनाने के किए श्मशान और कब्रिस्तान में जगह कम पड़ गई है।