राज्यसभा की 16 सीटों के लिए वोटिंग जारी, हरियाणा और राजस्थान में क्रॉस वोटिंग का डर

राज्यसभा की 57 सीटों पर चुनाव का ऐलान हुआ था, 41 सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हुआ है, जबकि 16 सीटों के लिए शुक्रवार को चार राज्यों में मतदान जारी है, राजस्थान और हरियाणा में पार्टियों को क्रॉस वोटिंग का डर सता रहा है

Updated: Jun 10, 2022, 11:24 AM IST

राज्यसभा की 16 सीटों के लिए वोटिंग जारी, हरियाणा और राजस्थान में क्रॉस वोटिंग का डर
Photo Courtesy: ipleaders

नई दिल्ली। हरियाणा, कर्नाटक, राजस्थान और महाराष्ट्र की 16 राज्यसभा सीटों पर मतदान शुरू हो चुका है। एक तरफ महाराष्ट्र और कर्नाटक में ज्यादा सस्पेंस नहीं है तो वहीं हरियाणा और राजस्थान में मुकाबला रोचक होने की उम्मीद है। राजस्थान में हॉर्स ट्रेडिंग की आशंका के चलते कांग्रेस ने अपने विधायकों को रिसोर्ट में रखा था और इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई थी। जयपुर के रिसॉर्ट से सभी विधायक एक साथ वोट डालने के लिए विधानसभा पहुंच चुके हैं।

हालांकि, बाड़ेबंदी के बावजूद भी क्रॉस वोटिंग का डर बरकरार है। दरअसल, एसेल ग्रुप के चेयरमैन सुभाष चंद्रा बीजेपी के सहयोग से निर्दलीय मैदान में हैं। जीत के लिए उनके पास पर्याप्त विधायकों का समर्थन नहीं है। लेकिन पूर्व में भी वह क्रॉस वोटिंग के माध्यम से राज्यसभा सदस्य निर्वाचित हो चुके हैं। ऐसे में कांग्रेस अपने तीसरे उम्मीदवार प्रमोद तिवारी की जीत को लेकर आशंकित है।

यह भी पढ़ें: BJP में टिकट बंटवारे को लेकर घमासान, ग्वालियर में तोमर-सिंधिया, इंदौर में कैलाश-सुमित्रा, जबलपुर में शिवराज-वीडी ने फंसाया पेंच

राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष महेश जोशी ने कहा, 'हमारे पास 126 विधायकों का आंकड़ा है. हर कोई एकजुट है। मुख्यमंत्री खुद मतदान पर्यवेक्षक होंगे. सभी विधायकों को मतदान से पहले सीएम को अपना वोट पर्चा दिखाना होगा। दूसरे पोल ऑब्जर्वर गोविंद सिंह डोटासरा हैं, जो स्थिति पर नजर बनाए रखेंगे।' राजस्थान में सत्तारूढ़ कांग्रेस सरकार के खिलाफ नाराजगी जाहिर कर चुके विधायकों ने मतदान कर दिया है। खास बात है कि ये विधायक BSP छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे। 

उधर, महाराष्ट्र में राज्यसभा चुनाव के दौरान बड़ा उलटफेर देखने को मिला है। महाराष्ट्र में सहयोगी दल शिवसेना और NCP वोटिंग पैटर्न को लेकर भिड़ गए हैं। महाराष्ट्र में भाजपा को हराने के लिए असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने महाविकास अघाड़ी को समर्थन देने का ऐलान किया है। AIMIM महाराष्ट्र अध्यक्ष इम्तियाज जलील ने कहा कि भाजपा को हराने के लिए हमारी पार्टी AIMIM ने महाराष्ट्र में राज्यसभा चुनाव में महा विकास अघाड़ी (MVA) को वोट देने का फैसला किया है। AIMIM महाराष्ट्र के 2 विधायकों को कांग्रेस उम्मीदवार इमरान प्रतापगढ़ी के समर्थन में वोट डालने के लिए कहा गया है।

यह भी पढ़ें: भाजपा में पार्षद दावेदारों के लिए 10हजार रुपए एंट्री फीस, कांग्रेस बोली भाजपा दल नही कॉरपोरेट संस्था

महाराष्ट्र में राज्यसभा की छह सीटों के लिए मतदान की प्रक्रिया चल रही है। बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस विधान भवन पहुंच चुके हैं। इधर, कैबिनेट मंत्री नितिन राउत ने कहा कि हमारी जीत सुनिश्चित है। पिछले ढाई साल में महा विकास आघाड़ी ने काम किया है और उसका परिणाम आज दिखेगा।

हरियाणा के दो राज्यसभा सीटों के लिए भी मतदान शुरु हो गया है। विधायकों का विधानसभा भवन पहुंचने का सिलसिला जारी है। कांग्रेस से नाराज विधायक कुलदीप बिश्नोई भी पहुंचे हैं। उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि अपनी अंतरआत्मा की आवाज सुनूंगा। दरअसल,  हरियाणा राज्यसभा चुनाव में पहली सीट जीतने के लिए 31 और दूसरी के लिए 30 विधायक वोटों की आवश्यकता है। इसका मतलब है कि बीजेपी उम्मीदवार को 31 वोट चाहिए और कांग्रेस उम्मीदवार को 30 वोट चाहिए। बीजेपी के पास 40 विधायक हैं, इसलिए वो एक सीट आराम से जीत सकती है। जबकि कांग्रेस के पास 31 विधायक हैं, ऐसे में बिश्नोई वोट न भी दें तो भी माकन सुरक्षित हैं। लेकिन यदि एक अन्य विधायक ने क्रॉस वोटिंग कर दिया तो कांग्रेस का खेल खराब हो सकता है।

कर्नाटक में सभी चार सीटों पर मतदान प्रक्रिया जारी है। फिलहाल, चौथी सीट के नतीजे पर बड़ा पेंच फंसता नजर आ रहा है। दरअसल, यहां तीनों पार्टियों ने अपने उम्मीदवार उतारे हैं, लेकिन किसी भी दल के पास सीट जीतने के लिए पर्याप्त वोट नहीं हैं। बहरहाल, देश शाम तक जीत और हार को लेकर स्थिति स्पष्ट हो सकती है।