फर्जी टूलकिट मामले में कार्रवाई से घबराए संबित पात्रा, पुलिस से 7 दिन का मोहलत देने की लगाई गुहार

भ्रामक टूलकिट साझा करने के आरोप में रायपुर पुलिस ने आज बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा को नोटिस भेजकर शाम 4 बजे तक हाजिर होने को कहा था, पात्रा ने मेल भेजकर 7 दिनों का समय मांगा है

Updated: May 23, 2021, 06:50 PM IST

फर्जी टूलकिट मामले में कार्रवाई से घबराए संबित पात्रा, पुलिस से 7 दिन का मोहलत देने की लगाई गुहार
Photo Courtesy: Amar Ujala

रायपुर। भ्रामक टूलकिट साझा करने के मामले में बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा की मुश्किलें बढ़ती दिख रही है। रायपुर पुलिस की त्वरित कार्रवाई से घबराए संबित पात्रा ने 7 दिनों की मोहलत मांगी है। बीजेपी प्रवक्ता ने सिविल लाइंस थाने को मेल भेजकर समय देने की गुहार लगाई है। इसके पहले रायपुर पुलिस ने इस मामले में पात्रा को नोटिस भेजकर आज शाम हाजिर होने को कहा था।

बताया जा रहा है कि सात दिन की मोहलत की मांग करने वाले पात्रा के इस मेल का पुलिस ने अबतक जवाब नहीं दिया है। इस बारे में अधिकारियों से चर्चा कर पात्रा से पूछताछ की अगली तारीख तय की जाएगी। दरअसल, रायपुर पुलिस ने कल बीजेपी नेता को नोटिस भेजकर आज शाम 4 बजे तक थाने में पेश होने को कहा था, अन्यथा हिरासत में लेने की कार्रवाई शुरू करने की चेतावनी दी थी। पुलिस ने उन्हें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हाजिर होने का विकल्प भी दिया था।

यह भी पढ़ें: टूलकिट केस: संबित पात्रा और रमन सिंह के खिलाफ रायपुर में FIR, NSUI ने की थी शिकायत

सिविल लाइन थाना प्रभारी ने एक नंबर भी संबित को भेजा था, ताकि वो वीडियो कॉलिंग कर बयान दर्ज करवा सकें। इसी तरह का एक नोटिस छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह को भी भेजा गया है। सिंह को 24 मई दोपहर 12 बजे घर पर ही रहने के लिए कहा गया है। सिविल लाइंस थाने की टीम भ्रामक टूलकिट मामले में घर पर ही रमन सिंह से बातचीत करेगी। 

दरअसल, बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने 18 मई को ट्विटर पर एक टूलकिट शेयर किया था। पात्रा ने दावा किया कि कांग्रेस पार्टी देश और प्रधानमंत्री मोदी को बदनाम करने के लिए षड्यंत्र रच रही है। पात्रा के मुताबिक कांग्रेस का प्लान देश में फैले कोरोना के नए वैरिएंट को इंडियन स्ट्रेन या मोदी स्ट्रेन कहलवाना है। साथ ही कुंभ को सुपर स्प्रेडर बताना है। इतना ही नहीं पात्रा ने देशभर में कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा की जा रही मदद को जन संपर्क का जरिया करार दिया है। पात्रा ने यहां तक आरोप लगाया है कि कांग्रेस नेता विदेशी पत्रकारों के ज़रिए भारत की छवि खराब करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: टूलकिट केस: मैनिपुलेटेड मीडिया के टैग पर भड़की मोदी सरकार, ट्विटर के खिलाफ खोला मोर्चा

इस पूरे मामले में नया मोड़ तब आया जब प्रतिष्टित फैक्ट चेक वेबसाइट ऑल्ट न्यूज़ ने इसकी जांच की। फैक्ट चेक एजेंसी ने अपनी जांच में पाया की कांग्रेस के फर्जी लेटरहेड पर इस टूलकिट को बनाया गया है। न्यूज़ एजेंसी ने इस बारे में रिपोर्ट प्रकाशित कर बीजेपी को बेनकाब कर दिया। इसके बाद कांग्रेस ने ट्विटर से मांग की है कि जेपी नड्डा, संबित पात्रा, स्मृति ईरानी और बीएल संतोष के अकॉउंट्स को तत्काल प्रभाव से हमेशा के लिए सस्पेंड कर दिया जाए। मामले की सच्चाई आने के बाद एक ओर ट्विटर यूजर्स बीजेपी नेताओं को खूब भला बुरा कह रहे हैं, तो बीजेपी नेताओं ने ट्विटर को ही निशाने पर लेना शुरू कर दिया है।