शाहीनबाग में गोली चलाने वाले कपिल गुर्जर पर बीजेपी का यू-टर्न, बवाल बढ़ने के बाद पल्ला झाड़ा

आज ही सुबह बीजेपी ने दिल्ली के शाहीनबाग में सरेआम गोली चलाने वाले कपिल गुर्जर को फूल-माला पहनाकर पार्टी की सदस्यता दिलाई थी, फजीहत होने के बाद निकाला बाहर

Updated: Dec 31, 2020, 01:02 AM IST

शाहीनबाग में गोली चलाने वाले कपिल गुर्जर पर बीजेपी का यू-टर्न, बवाल बढ़ने के बाद पल्ला झाड़ा

गाजियाबाद। राजधानी दिल्ली के शाहीनबाग में नए नागरिकता कानून के खिलाफ आंदोलन के दौरान सरेआम गोलियां चलाने वाले कपिल गुर्जर पर बीजेपी ने यू टर्न ले लिया है। बीजेपी द्वारा सदस्यता दिलाने पर हुई फजीहत के बाद आनन-फानन में बीजेपी ने आदेश जारी कर उसकी सदस्यता रद्द कर दी है। पार्टी ने डैमेज कंट्रोल के लिए कहा है कि गुर्जर के बारे में पदाधिकारियों को पहले से पूरी जानकारी नहीं थी।

दरअसल, आज सुबह ही दिल्ली से सटे यूपी के गाजियाबाद में कपिल गुर्जर को बीजेपी कार्यालय में पार्टी पदाधिकारियों ने फूल मालाएं पहनाकर बीजेपी की प्राथमिक सदस्यता दिलाई थी। पुलिस की मौजूदगी में दिनदहाड़े गोली चलाने वाले कपिल गुर्जर ने बीजेपी में शामिल होते समय कहा था कि बीजेपी हिंदुओं के लिए काम करती है इसलिए मैंने पार्टी की सदस्यता ली है। कपिल ने कहा, 'हम भारतीय जनता पार्टी के साथ हैं। बीजेपी जो भी काम करती है वह ज्यादातर हिंदुओं के लिए ही होते हैं। इसीलिए मैने बीजेपी जॉइन की है।' 

 

 

गुर्जर के इस बयान का वीडियो और उसके बीजेपी में जाने का समाचार सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगा। कपिल गुर्जर को भाजपा में शामिल किए जाने पर विपक्षी दलों ने भी पार्टी को घेरना शुरू कर दिया था। इस दौरान बीजेपी की जमकर फजीहत हुई। मामला बढ़ता देख गाजियाबाद के महानगर अध्यक्ष ने शाम को बयान जारी कर बताया कि प्रदेश नेतृत्व ने उसकी पार्टी सदस्यता को रद्द कर दिया है।

शाहीनबाग में गोली चलाकर सुर्खियों में आया था कपिल गुर्जर

कपिल गुर्जर उर्फ कपिल बैंसला इसी साल के शुरुआती महीने में शाहीनबाग प्रदर्शन के दौरान सुर्खियों में आया था। उसने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को हटाने की धमकी देते हुए सरेआम तीन गोलियां चलाई थीं। कपिल ने ये हरकत पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में की थी। इस दौरान उसने सांप्रदायिक नारे भी लगाए थे। 

कपिल गुर्जर द्वारा फायरिंग का मामला सामने आने के बाद उसके और उसके परिवार के रिश्ते आम आदमी पार्टी के साथ होने की अफवाह भी जोरशोर से फैली थी। हालांकि उसने आज खुद ही स्पष्ट किया है कि इसके पहले उसका किसी भी राजनीतिक दल से लेना देना नहीं रहा है। फिलहाल कपिल गुर्जर इस गोलीकांड के मामले में साकेत कोर्ट से जमानत पर बाहर है। वह जब जेल से ज़मानत पर बाहर आया था, तब भी बीजेपी से जुड़े लोगों ने फूल मालाओं के साथ उसका जोरदार स्वागत किया था।