बीजेपी से हर दिन, हर घंटे का होगा हिसाब, एजेंसियों के दुरुपयोग को लेकर बीजेपी पर हमलावर हुए शरद पवार

एनसीपी सुप्रीमो ने पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस पर भी जमकर साधा निशाना, कहा, जब से सत्ता गई है तब से कुछ लोग अस्वस्थ हो गए हैं, हर रोज केंद्र को लिस्ट भेज कर जांच की मांग करते हैं

Publish: Nov 18, 2021, 10:42 AM IST

बीजेपी से हर दिन, हर घंटे का होगा हिसाब, एजेंसियों के दुरुपयोग को लेकर बीजेपी पर हमलावर हुए शरद पवार

मुंबई। केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग को लेकर एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने जोरदार हमला बोला है। एनसीपी सुप्रीमो ने बीजेपी को खुली धमकी देते हुए कहा है कि बीजेपी से हर मिनट और हर घंटे का हिसाब लिया जाएगा। शरद पवार ने बिना नाम लिए पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस पर भी निशाना साधा। पवार ने कहा कि कुछ लोग सत्ता जाने के बाद अस्वस्थ हो गए हैं। 

शरद पवार ने केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग पर बोलते हुए कहा कि तुम कितने भी अरेस्ट कर लो, कितने भी छापे मार लो लेकिन हम प्रदेश की जनता के साथ मिलकर तुम्हें राज्य में कभी आने नहीं देंगे। शरद पवार ने कहा कि बीजेपी को सौ फीसदी हार का सामना करना पड़ेगा। एनसीपी नेता ने कहा कि बीजेपी केवल बदले की भावना से राजनीति कर रही है। लेकिन हर घंटे, हर मिनट का हिसाब भी बीजेपी से लिया जाएगा। 

शरद पवार ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के मामले पर बोलते हुए कहा कि जिस अधिकारी ने अनिल देशमुख पर आरोप लगाए वह खुद फरार हो गया। पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के बारे में एनसीपी नेता ने कहा कि अदालत ने उस अधिकारी को भगौड़ा घोषित कर दिया है, वह कहां गायब है, इसकी जानकारी तक किसी को नहीं है। लेकिन अनिल देशमुख को जेल में कैद रखा गया है।

यह भी पढ़ें : पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर भगौड़ा घोषित, सरेंडर नहीं करने पर जब्त होगी संपत्ति

पवार ने कहा कि इसका मुख्य कारण सिर्फ बीजेपी के बदले की भावना से परिपूर्ण राजनीति है, जिसकी पूर्ति के लिए बीजेपी केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग करने पर उतारू है। कुछ लोगों ने इसे अब धंधा बना लिया है। एनसीपी नेता ने एकनाथ खडसे का उदाहरण देते हुए बताया कि जैसे ही वे भाजपा छोड़ एनसीपी में शामिल हुए, उनकी पत्नी को ईडी ने समन भेज दिया। 

शरद पवार ने महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस पर भी बिना नाम लिए निशाना साधा। पवार ने कहा कि महाराष्ट्र की सरकार को अस्थिर करने के लगातार प्रयास किए गए। जब से सत्ता गई है कुछ लोग अस्वस्थ हो गए हैं, और प्रतिदिन केंद्र को एक लिस्ट भेजते हैं और जांच करने की मांग करते हैं।