ममता बनर्जी पर बरसे संजय राउत, बोले गोवा में चुनाव लड़ने से बीजेपी को होगा फायदा

संजय राउत ने टीएमसी और आम आदमी पार्टी के गोवा में चुनाव लड़ने पर बड़ा हमला बोला है, उन्होंने कहा है कि कुछ राजनीतिक दलों ने गोवा को राजनीतिक प्रयोगशाला बना दिया है

Publish: Jan 09, 2022, 06:50 PM IST

ममता बनर्जी पर बरसे संजय राउत, बोले गोवा में चुनाव लड़ने से बीजेपी को होगा फायदा

मुंबई। शिवसेना नेता संजय राउत ने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी और उनकी पार्टी टीएमसी पर बड़ा हमला बोला है। गोवा में चुनाव लड़ रही टीएमसी पर निशाना साधते हुए संजय राउत ने निशाना साधते हुए कहा है कि इससे सिर्फ बीजेपी को फायदा पहुंचेगा। टीएमसी और ममता बनर्जी पर निशाना साधने के साथ साथ संजय राउत ने अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी को भी आड़े हाथों लिया है। राज्यसभा सांसद ने कहा है कि कुछ राजनीतिक दलों ने गोवा को राजनीतिक प्रयोगशाला में तब्दील कर दिया है। 

संजय राउत ने शिवसेना के मुखपत्र संपादकीय में कहा कि कांग्रेस का सफाया करना बीजेपी का सपना सकता हो सकता है। लेकिन यह ममता बनर्जी को शोभा नहीं देता जो खुद बीजेपी के खिलाफ लड़ रही हैं। संजय राउत ने कहा कि ममता बनर्जी अविश्वसनीय नेताओं को अपनी पार्टी में शामिल कर रही हैं। 

संजय राउत ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में 17 सीटें जितने वाली कांग्रेस पार्टी आज दो विधायकों पर सिमट गई है। टीएमसी और आप जैसे बाहरी राजनीतिक दलों के गोवा में चुनाव लड़ने से बीजेपी को ही फायदा पहुंचेगा। राउत ने कहा कि वे गोवा में अब तक जितने भी लोगों से मिले हैं, उनका यही कहना है कि बीजेपी इस मर्तबा भी बहुमत नहीं लाएगी। ऐसे में कांग्रेस के खिलाफ लड़ाई लड़कर दोनों ही पार्टियां बीजेपी को दोबारा सत्ता में आने का मौका देने के अलावा कुछ नहीं करेंगी। 

संजय राउत ने बीजेपी पर भी हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी के अधिकतर विधायक और टिकट की चाह रखने वाले उम्मीदवार हिस्ट्री शीटर हैं और ड्रग्स के धंधे में संलिप्त हैं। संजय राउत ने कहा कि कोई भी राजनीतिक दल असली मुद्दों की बात नहीं कर रहा है। कसीनो संचालित करने वाले लोग गोवा की राजनीति को नियंत्रित कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ें : कर्फ्यू में क्रिकेट खेलने पर यूज़र को दिल्ली पुलिस का मज़ाक़िया जवाब, तुम गेंदें उड़ाओ, हम कैच के माहिर हैं

पश्चिम बंगाल में चुनाव जीतने के बाद से ही ममता बनर्जी ने अपनी पार्टी के विस्तार की कवायद शुरू कर दी। जुलाई में दिल्ली पहुंच कर विपक्षी एकता की दुहाई देने वाली ममता बनर्जी ने अचानक अपना रुख बदल लिया। नवंबर में दोबारा दिल्ली आने पर ममता बनर्जी ने एक एक कर कांग्रेस नेताओं को टीएमसी में शामिल करने की कवायद शुरू कर दी। 

यह भी पढ़ें : BCCI ने लगाई है कोहली के प्रेस कॉन्फ्रेंस पर रोक, विराट के कोच ने जताई चिंता

कीर्ति आजाद और अशोक तंवर ने ममता बनर्जी की मौजूदगी में टीएमसी की सदस्यता ग्रहण कर ली। मेघालय में पूर्व सीएम मुकुल संगमा सहित कांग्रेस के कई विधायक टीएमसी में शामिल हो गए। दिसंबर महीने में मुंबई पहुंच कर ममता बनर्जी ने सार्वजनिक तौर पर यह कहा डाला कि यूपीए का अब कोई अस्तित्व नहीं है। हालांकि खुद शिवसेना और एनसीपी ने ममता बनर्जी के इस कथन से खुद को अलग कर लिया और यह कहा कि बिना कांग्रेस के बीजेपी को हराना संभव नहीं है।