स्मृति ईरानी ने किया राष्ट्रपति का अपमान, बिना शर्त माफी मांगें, अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र

राष्ट्रपत्नी विवाद के बीच अधीर रंजन चौधरी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को पत्र लिखकर कहा कि स्मृति ईरानी ने राष्ट्रपति पद की गरिमा को ठेस पहुंचाई है उन्हें बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए

Updated: Jul 31, 2022, 04:16 PM IST

स्मृति ईरानी ने किया राष्ट्रपति का अपमान, बिना शर्त माफी मांगें, अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र

नई दिल्ली। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति के नाम से जुड़े संबोधन को लेकर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को पत्र लिखा है। पत्र में अधीर रंजन ने केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी से बिना शर्त माफी मांगने को कहा है। अधीर रंजन चौधरी का कहना है कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का नाम लेते समय आदरसूचक संबोधन नहीं किया था।

अधीर रंजन चौधरी ने आरोप लगाया कि सदन में गुरुवार को स्मृति ईरानी ने बार-बार ‘द्रौपदी मुर्मू’ शब्द का इस्तेमाल किया। केंद्रीय मंत्री ने उनके (महामहिम के) नाम के साथ सम्मानजनक शब्द उपयोग नहीं किया, जबकि वह शीर्ष संवैधानिक पद पर आसीन हैं। चौधरी ने कहा है कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राष्ट्रपति या श्रीमती जैसे शब्दों का उपयोग किए बिना सदन में बार-बार राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का नाम लिया। उन्होंने कहा है कि जिस तरह से स्मृति ईरानी सदन में बार-बार मैडम प्रेसिडेंट का नाम ले रही थीं, वह उचित नहीं था।

यह भी पढ़ें: बीजेपी का ऑपरेशन लोटस बेनकाब, झारखंड के विधायकों के पास से कैश मिलने पर बोली कांग्रेस

अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि स्मृति ईरानी का इस तरह से बार-बार मैडम प्रेसिडेंट को 'द्रौपदी मुर्मू' कहना राष्ट्रपति पद की गरिमा के अनुरूप नहीं था। ओम बिड़ला को संबोधित पत्र में अधीर रंजन चौधरी ने ये भी लिखा कि उनकी हिंदी के कारण वे इस तरह का बयान दे गए थे। इसके लिए राष्ट्रपति से माफी भी मांगी थी लेकिन जिस तरह से स्मृति ईरानी ने बार-बार मैडम प्रेसिडेंट को द्रौपदी मुर्मू वह राष्ट्रपति पद की गरिमा के खिलाफ है।