तेलंगाना कांग्रेस संकट: डैमेज कंट्रोल के लिए दिग्विजय सिंह हैदराबाद रवाना, असंतुष्टों से करेंगे मुलाकात

दिग्विजय सिंह को तेलंगाना में कांग्रेस नेताओं को एकजुट करने की जिम्मेदारी मिली है, वे हैदराबाद के लिए रवाना हो गए हैं, वह कल स्थानीय नेताओं के साथ बैठक करेंगे।

Updated: Dec 21, 2022, 05:32 PM IST

तेलंगाना कांग्रेस संकट: डैमेज कंट्रोल के लिए दिग्विजय सिंह हैदराबाद रवाना, असंतुष्टों से करेंगे मुलाकात

हैदराबाद। तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी के 12 सदस्यों के इस्तीफे के बाद राज्य की सियासत गरमा गई है। अंतर्कलह से निपटने के लिए शीर्ष नेतृत्व ने पार्टी के संकटमोचक माने जान वाले दिग्विजय सिंह को तेलंगाना भेजा है। सिंह आज देर शाम हैदराबाद पहुंचेंगे और असंतुष्ट नेताओं से मुलाकात करेंगे।

जानकारी के मुताबिक राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह बुधवार शाम से लेकर गुरुवार तक तेलंगाना कांग्रेस के विभिन्न नेताओं से "वन टू वन" चर्चा करेंगे। सिंह की कोशिश पार्टी नेताओं के बीच कड़वाहट दूर करने के साथ ही इस्तीफा देने वाले सदस्यों को वापस पार्टी में लाने की होगी।

यह भी पढ़ें: क्या नरेंद्र मोदी मास्क पहनकर गुजरात गए थे, यात्रा रोकने संबंधी सरकार की चिट्ठी पर कांग्रेस हमलावर

इससे पहले मंगलवार को दिग्विजय सिंह ने बगावत पर उतरे तेलंगाना कांग्रेस के नेताओं से बातचीत भी की थी। सिंह के हस्तक्षेप के बाद टीपीसीसी के असंतुष्ट नेताओं ने "कांग्रेस बचाओ आंदोलन" के तहत अपनी प्रस्तावित बैठक स्थगित की। यह बैठक मंगलवार को पूर्व विधायक महेश्वर रेड्डी के आवास पर बुलाई गई थी।

महेश्वर रेड्डी ने स्थानीय पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा था कि, 'चूंकि दिग्विजय सिंह जैसे वरिष्ठ नेता ने इस मामले में हस्तक्षेप किया है और आश्वासन दिया है कि वह सभी के साथ बातचीत करेंगे और इस मुद्दे को सुलझाएंगे, इसलिए हमने बैठक स्थगित करने का फैसला किया है।' 

यह भी पढ़ें: MP विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा, नेता प्रतिपक्ष ने उठाया चिरायु हॉस्पिटल को ज्यादा रुपए देने का मुद्दा

इससे पहले सोमवार को कांग्रेस के 12 नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। इन नेताओं ने आरोप लगाया कि राज्य में मूल नेताओं को दरकिनार कर दूसरे पार्टी से आए नेताओं को अधिक तरजीह दी जा रही है और उन्हें कांग्रेस के पुराने नेताओं के ऊपर का पद दिया जा रहा है। इस मामले में लोकसभा सांसद उत्तम कुमार ने कांग्रेस आलाकमान को चिट्ठी लिखकर कहा कि पार्टी में 50 फीसदी से अधिक नेता बाहरी हैं।