MSP को लेकर किसान और सरकार के बीच बड़ी लड़ाई होगी, मैं भी उस लड़ाई में कूद पडूंगा: गवर्नर सत्यपाल मलिक

सत्यपाल मलिक ने कहा कि आज देश का पेट भरने वाला किसान और देश की रक्षा करने वाला जवान, दोनों दुखी हैं। केंद्र सरकार काफी घमंड में रहती है।

Updated: Sep 09, 2022, 11:49 AM IST

MSP को लेकर किसान और सरकार के बीच बड़ी लड़ाई होगी, मैं भी उस लड़ाई में कूद पडूंगा: गवर्नर सत्यपाल मलिक

नई दिल्ली। किसान आंदोलन की समाप्ति के महीनों गुजर जाने के बाद भी एमएसपी को लेकर केंद्र सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाए हैं। ऐसे में एमएसपी की मांग अब एक बार फिर से जोर पकड़ने लगी है। इसी बीच मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि एमएसपी को लेकर किसान और सरकार के बीच बड़ी लड़ाई होगी और मैं भी उस लड़ाई में कूद पडूंगा।

गुरुवार को उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के औरंगाबाद क्षेत्र स्थित मुड़ी बकापुर गांव में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे सत्यपाल मलिक ने सरकार को किसानों और अग्निपथ योजना के मुद्दे पर घेरा। मलिक ने कहा कि आज देश की रक्षा करने वाला जवान और लोगों के पेट भरने वाला किसान दोनों दुखी हैं।

यह भी पढ़ें: PM Kisan Scheme का लाभ लेने वाले 21 लाख किसानों से होगी वसूली, UP सरकार ने बताया अपात्र

सत्यपाल मलिक ने किसानों के मुद्दे पर कहा कि किसानों की एमएसपी की मांग पर अगर सरकार बात नहीं मानती तो किसान और सरकार के बीच बड़ी लड़ाई होगी। ऐसे में मैं गवर्नरशिप से इस्तीफा देकर किसानों का साथ देने के लिए उस लड़ाई में कूद पड़ूंगा। केंद्र सरकार काफी घमंड में रहती है। हो सकता है, इससे कुछ बुरा हो सकता है, तब शायद सरकार बैकफुट पर आए। सरकार जब तक एमएसपी को कानूनी दर्जा नहीं देती, तब तक किसानों की समस्या दूर नहीं होगी।

जवानों को लेकर सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैंने सरकार से कहा है कि अग्निपथ योजना को जल्दी ठीक किया जाए। ये योजना ठीक नहीं है। इससे असंतुष्ट नौजवान अगर फौज में जाएंगे तो उनके हाथ में राइफल होगी और उसकी कोई दिशा नहीं होगी, पता नहीं किधर चल जाए।

यह भी पढ़ें: MP में लहसुन उपजाने वाले किसानों का बुरा हाल, कृषि मंत्री बोले- ऐसी फसल उगाई ही क्यों

पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि अगर मेरी बात से किसी को दुख पहुंच रहा है या चोट पहुंच रही है, तो वो अपना इस्तीफा साथ लेकर चलते हैं। वे अपने पद से तुरंत हट जाएंगे। उन्होंने कहा इतने दिनों से किसानों ने आंदोलन किया लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई। मैं प्रधानमंत्री के पास गया और इस्तीफा अपनी जेब में रखकर गया और कहा कि किसानों के साथ अन्याय हो रहा है, इनकी बात सुनी जाए।